नई दिल्ली: चुनाव सुधार के लिए काम करने वाली संस्था एडीआर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, लोकसभा के मौजूदा 521 सांसदों में कम से कम 83 प्रतिशत करोड़पति हैं और 33 प्रतिशत के खिलाफ आपराधिक मामले हैं. गैर सरकारी संगठन एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) 2014 के आम चुनाव में लोकसभा के लिए चुने गए 543 सदस्यों में 521 सांसदों के शपथपत्रों का विश्लेषण कर यह रिपोर्ट तैयार की है. रिपोर्ट में कहा गया है, जिन 521 मौजूदा सांसदों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया गया, उनमें 430 (83 प्रतिशत) करोड़पति हैं. उनमें भाजपा से 227, कांग्रेस से 37 और अन्नाद्रमुक से 29 सांसद हैं. Also Read - स्टार प्रचारक का दर्जा रद्द: कमलनाथ बोले- EC ने मुझे कोई नोटिस नहीं दिया, मेरे वकील देखेंगे इस मामले को

गिरिराज सिंह ने नीतीश कुमार से की मुलाकात, शुक्रवार को जाएंगे बेगूसराय Also Read - Bihar Assembly Election 2020 : तेजस्वी का भाजपा पर निशाना, 'पहले महंगाई इनके लिए 'डायन' थी, अब 'भौजाई' बन गई'

रिपोर्ट के मुताबिक, लोकसभा के प्रत्येक मौजूदा सदस्य की औसत संपत्ति 14. 72 करोड़ रुपए हैं. एडीआर की रिपोर्ट में कहा गया है कि मौजूदा 32 सांसदों ने अपने पास 50 करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति घोषित की, जबकि सिर्फ मौजूदा दो सांसदों ने पांच लाख रुपए ये से कम की संपत्ति घोषित की. Also Read - यूपी में बीजेपी के लिए अब पहली चुनौती अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी, क्‍या बसपा का ग्राफ गिरेगा?

मिशन शक्ति पर शिवसेना ने कहा, मोदी है तो मुमकिन है, जमीन पर भी और आसमान में भी

100 से ज्‍यादा सांसदों के खिलाफ गंभीर मामले
रिपोर्ट के मुताबिक मौजूदा 33 प्रतिशत सांसदों (लोकसभा के) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले होने की शपथपत्रों में घोषणा की है. एनजीओ की रिपोर्ट में कहा गया है, उनमें से 106 ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले होने की घोषणा की है, जिनमें हत्या, हत्या का प्रयास, सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगाड़ना, अपहरण और महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे मामले शामिल हैं, जबकि 10 मौजूदा सांसदों ने हत्या से जुड़े मामले घोषित किए हैं. उनमें से चार सांसद भाजपा से हैं जबकि कांग्रेस, राकांपा, लोजपा, राजद और स्वाभिमानी पक्ष से एक – एक सांसद हैं तथा एक सांसद निर्दलीय है.’’

एमपी में चुनाव से पहले बीजेपी की डैमेज कंट्रोल की कोशिश, अटल के भांजे को मनाने में जुटी पार्टी

हत्‍या के प्रयास के मामले में बीजेपी के सांसद सबसे ज्‍यादा
रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूदा 14 सांसदों ने अपने खिलाफ हत्या के प्रयास के मामलों की घोषणा की है. उनमें से आठ सांसद भाजपा से हैं. वहीं, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राकांपा, राजद, शिवसेना और स्वाभिमानी पक्ष के एक-एक सांसद हैं.

सौहार्द्र बिगाड़ने के मामले में भी बीजेपी के ज्‍याद सांसदों पर केस
रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 14 मौजूदा सांसदों ने साम्प्रदायिक सौहार्द्र बिगाड़ने के अपने खिलाफ मामले होने की घोषणा की. उनमें से 10 सांसद बीजेपी से हैं ,जबकि टीआरएस, पीएमके, एआईएमआईएम और एआईयूडीएफ के एक – एक सांसद हैं.

भारत की ताकत देख चीन का शांतिपाठ, कहा- आशा है कि सभी देश अंतरिक्ष में शांति कायम रखने के लिए कार्य करेंगे