नई दिल्ली. देश के पूर्वोत्तर इलाके के राज्य मेघालय में भी लोकसभा चुनाव की रणभेरी बजने के बाद सियासी सरगर्मियां चरम पर हैं. मेघालय में लोकसभा की दो सीटें हैं- शिलांग और तुरा. सुदूर पर्वतीय राज्य मेघालय की तुरा संसदीय सीट पर इस लोकसभा चुनाव में ‘संगमा’ टाइटिल वाले दो नेताओं की भिड़ंत होगी. इस सीट पर कांग्रेस की तरफ से जहां राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. मुकुल संगमा (Dr Mukul Sangma) चुनाव लड़ रहे हैं, वहीं नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP) की तरफ से शुक्रवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री अगाथा संगमा (Agatha Sangma) ने नामांकन पर्चा दाखिल किया. मेघालय की दोनों संसदीय सीटों पर आगामी 11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे.Also Read - UP Election 2022: आगरा में 6 उम्मीदवारों ने चुनाव के लिये नामांकन किया, एक ट्रांसजेंडर भी मैदान में

एक्टर प्रकाश राज बेंगलोर सेंट्रल सीट से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर भरा पर्चा Also Read - Zee Opinion Poll: उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार बनती है तो क्या आप बनेंगे मुख्यमंत्री? जानें हरीश रावत का जवाब...

अगाथा संगमा, राज्य के वर्तमान मुख्यमंत्री कोनराड संगमा की बहन हैं और लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष पीए संगमा की बेटी. चुनावी राजनीति में वे पूरे 10 साल के बाद अपनी वापसी करना चाह रही हैं. मेघालय की दूसरी संसदीय सीट- शिलांग से कांग्रेस के निवर्तमान सांसद विंसेंट एच पाला चुनावी मैदान में हैं. अगाथा संगमा, इससे पहले दो बार लोकसभा की सांसद रह चुकी हैं. 38 वर्षीय अगाथा यूपीए-2 के शासनकाल में केंद्र सरकार में मंत्री भी रह चुकी हैं. उनके पिता पीए संगमा, कांग्रेस पार्टी में या एनपीपी के अस्तित्व में आने के बाद इसी संसदीय सीट से चुनाव लड़ते और जीतते रहे. उनके बाद अगाथा संसदीय राजनीति में आईं. वहीं उनके भाई कोनराड संगमा ने राज्य की राजनीति में अपना ध्यान केंद्रित किया. कोनराड भी तुरा संसदीय सीट से ही सांसद बने थे, लेकिन राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में जीत के बाद उन्होंने इस सीट से इस्तीफा दे दिया. इसके बाद से यह सीट खाली थी. Also Read - Janta Ka Mood: उत्तराखंड में किस जाति के मतदाता किस पार्टी की तरफ, मुस्लिम मतदाताओं का मत किसे?

तुरा संसदीय सीट पर इस बार अगाथा संगमा का जिस प्रत्याशी से मुकाबला होना है, वह डॉ. मुकुल संगमा हैं. मुकुल राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, साथ ही मजबूत कैंडिडेट माने जाते हैं. लेकिन अगाथा संगमा के साथ इस चुनाव में कई फैक्टर हैं, जो उनका साथ देंगे. पहला फैक्टर तो यह है कि उनकी पार्टी अभी राज्य में सत्ता में है और उन्हें केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी का समर्थन प्राप्त है. हालांकि भाजपा भी यहां से चुनाव लड़ने वाली है. फिर भी अगाथा को उम्मीद है कि मुख्यमंत्री के रूप में कुर्सी पर बैठे उनके भाई चुनाव में साथ देंगे और वह एक बार फिर से संसद तक पहुंचने में कामयाब हो सकेंगी. हालांकि इस राह में कांग्रेस उनके लिए कांटे बिछाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है. अंग्रेजी अखबार बिजनेस स्टैंडर्ड की खबर के मुताबिक शिलांग सीट से कांग्रेस प्रत्याशी विंसेंट पाला ने दावा किया कि भाजपा को हराकर कांग्रेस एक बार फिर से केंद्र में सरकार बनाएगी. इस काम में मेघालय की जनता भी कांग्रेस का साथ देगी.