नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने जया प्रदा (Jaya Prada) को लेकर बयान देने वाले आजम खान (Azam Khan) का बचाव किया है. अखिलेश ने कहा कि उन्होंने कुछ और कहा था, हम समाजवादी पार्टी लोग हैं, कभी हम महिलाओं-बेटियों के प्रति कोई गलत भाषा का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. अखिलेश यादव ने यूपी के मुरादाबाद (Moradabad Lok Sabha Seat) में रैली के दौरान आजम खान के बयान पर प्रतिक्रिया दी. अखिलेश ने कहा कि ‘आजम खान साहब ने कहा कुछ लोग आरएसएस के कपड़े पहन के रहते हैं. उन्होंने किसी और के बारे में कहा था. हम समाजवादी लोग हैं. कभी हम महिलाओं के प्रति और बेटियों के प्रति कोई गलत भाषा इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.’

जया प्रदा के खिलाफ अभद्र बयान देकर फंसे आजम खान, हुई FIR, महिला आयोग का भी नोटिस

बता दें कि लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के दूसरे चरण के मतदान से पहले समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान अपने आपत्तिजनक बयान के कारण चौतरफा हमले से घिर गए हैं. आजम ने बीते दिनों रामपुर लोकसभा सीट (Rampur Lok Sabha Seat) से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा के खिलाफ अभद्र बयान दिया था. कथित तौर पर आजम खान ने कहा था, ‘जिनको हमने रामपुर की गलियों में ऊँगली पकड़ कर चलना सिखाया, उन्हें आपको पहचानने में 17 साल लग गए, लेकिन मैं 17 दिन में पहचान गया था कि इनके नीचे का अंडरवियर खाकी रंग का है’. इसको लेकर एक तरफ जहां आजम खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है, वहीं भाजपा और जया प्रदा ने भी आजम खान की निंदा की ही है. इसके अलावा अब राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी इस अभद्र बयान पर संज्ञान लेते हुए आजम खान को नोटिस भेजा है.

मेनका गांधी बोलीं- नौकरी चाहिए तो मुस्लिम वोट दें, वर्ना हम महात्मा गांधी की छठी औलाद नहीं, जो देते जाएंगे

सपा के दिग्गज नेता और कई बार विधायक रह चुके आजम खान इससे पहले भी अपने आपत्तिजनक बयानों को लेकर चर्चा में रहे हैं. खासकर जया प्रदा को लेकर दिए गए उनके बयान तब भी चर्चा में रहे थे, जब यह नेत्री समाजवादी पार्टी की तरफ से ही सांसद थीं. लेकिन इस बार आम चुनाव से पहले जया प्रदा ने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली. अब वह रामपुर लोकसभा सीट से सपा प्रत्याशी आजम खान को लोकसभा चुनाव में टक्कर दे रही हैं. बीते रविवार को आजम ने एक चुनावी सभा में जया प्रदा के खिलाफ यह आपत्तिजनक बयान दिया था.

‘आजम खान साहब, मैंने आपको भाई माना, क्या भाई अपनी बहन को ‘नाचने वाली’ की नजर से देखते हैं’