लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के बाद आए एग्जिट पोल के नतीजों ने लखनऊ में हलचल बढ़ा दी है. किसी भी एग्जिट पोल में यूपी को लेकर स्थिति साफ नहीं होती दिख रही है. कई चैनलों ने भाजपा को 50 से अधिक सीटें दी हैं वहीं कुछ ने महागठबंधन को 50 से अधिक सीटें दी हैं. यूपी को लेकर बनी इस ऊहापोह की स्थिति में समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव, बसपा सुप्रीमो मायावती से मुलाकात करने पहुंचे हैं.

बसपा सुप्रीमो के घर पर इन दोनों नेताओं के बीच करीब 1 घंटे तक बातचीत हुई. हालांकि इनके बीच क्या बात हुई, इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है. माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच रिजल्ट के बाद की स्थिति को लेकर मंथन हुआ. सभी राजनीतिक पंडितों का मानना था कि यूपी में सपा-बसपा के साथ आने से यहां भाजपा को भारी नुकसान पहुंच सकता है, लेकिन एग्जिट पोल के नतीजे ने स्थिति को और उलझा दिया है. राष्ट्रीय स्तर पर एग्जिट पोल में पीएम मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए को 300 से अधिक सीटें मिलने की बात कही गई है.

इस बीच विपक्ष के अन्य नेताओं में भी नतीजों के आने से पहले सक्रियता बढ़ गई है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करने के एक दिन बाद आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू यहां सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात करेंगे. तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) अध्यक्ष 23 मई को लोकसभा परिणाम से पहले भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजुट करने के अपने प्रयासों के तहत ममता से मुलाकात करेंगे.

एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया, ‘‘नायडू आज (सोमवार) दोपहर बाद पश्चिम बंगाल सचिवालय में ममता बनर्जी के साथ बैठक करेंगे. दोनों ‘महागठबंधन’ की रणनीतियों पर वार्ता करेंगे.’’ सूत्र ने बताया कि ऐसी संभावना है कि वह ममता के साथ वार्ता के दौरान सप्ताहांत में नयी दिल्ली में अन्य दलों के नेताओं के साथ हुई अपनी बैठकों के बारे में जानकारी देंगे. नायडू ने रविवार को सोनिया गांधी, राहुल गांधी, नेशनल कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी से बातचीत की थी.