एक दिन पहले कोलकाता में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा को लेकर भाजपा आक्रामक हो गई है. खुद पार्टी अध्यक्ष शाह ने इस मसले पर बुधवार को दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि राज्य की पूरी मशीनरी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अधीन है. अगर केंद्रीय सुरक्षा बल CRPF नहीं होती तो वह इस हिंसा में नहीं बच पाते. उन्होंने कहा कि अब तक चुनाव के 6 चरण समाप्त हो चुके हैं, इन 6 के 6 चरणों में सिवाय बंगाल के देश में और कहीं भी हिंसा नहीं हुई. सिर्फ बंगाल में 60 विपक्षी कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है.

उन्होंने कहा कि सहानुभूति बटोरने के लिए TMC के गुंडों ने विद्यासागर की मूर्ति तोड़ी. कॉलेज के अंदर से पथराव किया जा रहा था. उन्होंने हिंसा के लिए टीएमसी की ओर से भाजपा को जिम्मेवार बताने पर सवाल किया कि आखिर बंद कॉलेज के कमरे किसने खोले. कॉलेज पर किसका प्रशासनिक नियंत्रण है. उन्होंने कहा कि रोश शो के दौरान कॉलेज के अंदर से TMC के लोग पथराव कर रहे थे. शाह ने दावा किया कि कोलकाता के उनके रोड शो में 2.5 लाख लोग जुटे थे.

उन्होंने कहा कि आगजनी, पथराव और बोतल में किरोसिन डालकर हमले हुए. बंगाल में चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक क्यों चुप बैठे हुए हैं.  चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हैं.