नई दिल्लीः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मीडिया में आई एक खबर का शनिवार को हवाला देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर संप्रग शासन के दौरान हुए रक्षा सौदे को लेकर निशाना साधा. इस खबर में दावा किया गया है कि गांधी के एक कथित कारोबारी साझेदार को इस सौदे में ऑफसेट करार मिला था.

बिजनेस टुडे पत्रिका के अनुसार ब्रिटेन की एक कंपनी के सह-प्रमोटर को उस वक्त फ्रांस की कंपनी के ऑफसेट साझेदार के तौर पर रक्षा करार हासिल हुआ था जब कांग्रेस नीत संप्रग सत्ता में थी. इस कंपनी के बड़े हिस्से पर गांधी का स्वामित्व था.

शाह ने इस खबर को टैग करते हुए ट्वीट किया, “राहुल गांधी के ‘मिडास टच’ के साथ कोई भी सौदा बहुत ज्यादा नहीं है. जब वह सत्ता में थे, उनके कारोबारी साझेदार फायदा उठा रहे थे. इससे फर्क नहीं पड़ता कि भारत को इसका परिणाम भुगतना पड़े.”

मिडास टच आसानी से लाभ कमाने की काबिलियत के लिए उपयुक्त होने वाला विशेषण है.

खबर में दावा किया गया कि राहुल गांधी के पुराने कारोबारी साझेदार से जुड़ी सहायक कंपनियों को फ्रांस की एक कंपनी से 2011 में ऑफसेट साझेदार के तौर पर रक्षा करार हासिल हुआ था.