गुवाहाटी: अरुणाचल प्रदेश के विधायक तिरोंग अबोह समेत 11 लोग मंगलवार को अरुणाचल प्रदेश के तिरप जिले में संदिग्ध नागा उग्रवादियों के हमले में मारे गए. पुलिस ने कहा कि अबोह और उनके परिवार के सदस्य असम के डिब्रूगढ़ से खोनसा जा रहे थे. इसी दौरान तिरप जिले के बोगापानी इलाके में उनके वाहन पर संदिग्ध एनएससीएन (आईएम) के उग्रवादियों ने हमला किया. वहीं, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने ट्वीट किया, “उग्रवादियों द्वारा खोनसा के विधायक तिरोंग अबोह और कई अन्य लोगों की दुर्भाग्यपूर्ण हत्या से बेहद सदमे में हूं. हम इस बर्बर कृत्य की कड़ी निंदा करते हैं. अपराधियों पर कार्रवाई की जाएगी. मेरी संवेदनाएं मारे गए लोगों के साथ है. उनकी आत्मा को शांति मिले.” Also Read - Covid-19: MP की Congress MLA कलावती भूरिया का इलाज के दौरान निधन

Also Read - UP आते ही मुख्तार अंसारी की बढ़ीं मुश्किलें, योगी सरकार रद्द करवाएगी विधानसभा सदस्यता

अरुणाचल प्रदेश में बड़ा उग्रवादी हमला, विधायक सहित 10 लोगों की गोली मारकर हत्या Also Read - AIADMK MLA के ड्राइवर के घर पर आईटी की रेड, 1 करोड़ रुपए नकद जब्त

सीआरपीएफ ने कहा कि एनपीपी नेता तिरोंग अबोह के काफिले पर अज्ञात उग्रवादियों ने हमला किया, जिसमें कुल 11 लोग मारे गए हैं, जिसमें विधायक अबोह और उनका बेटा शामिल है. सीआरपीएफ के जवान खोंनसु से भेजे गए हैं. अरुणाचल प्रदेश के गृहमंत्री ने कहा, इस तरह का एक भी एक्‍सीडेंट इससे पहले कभी यहां हुआ नहीं. गृहमंत्री ने कहा, मैं इस वाकये की निंदा करता हूं. इस वाकये की जांच महत्‍वपूर्ण है. एक राजनीतिक विरोधी ने ऐसा किया है.

पर्वतीय राज्य के खोनसा पश्चिम निर्वाचन क्षेत्र से नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के विधायक अबोह ने हाल ही में हुए विधानसभा

चुनावों में दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव लड़ा था जिसके कारण उन्हें नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड-इसाक-मुइवा गुट

(एनएससीएन-आईएम) के उग्रवादियों से धमकियां मिलीं थीं.

पुलिस ने पुष्टि की है कि अबोह की मृत्यु हो गई है, लेकिन अन्य पीड़ितों का विवरण बताने से इनकार कर दिया. एनपीपी प्रमुख और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने इस घटना पर शोक व्यक्त किया.

संगमा ने ट्वीट किया, “एनपीपी अपने विधायक (अरुणाचल प्रदेश) श्री तिरोंग अबोह और उनके परिवार के सदस्यों की मौत की खबर से बेहद स्तब्ध और दुखी है. हम इस क्रूर हमले की निंदा करते हैं और गृहमंत्री राजनाथ सिंह और प्रधानमंत्री कार्यालय से आग्रह करते हैं कि ऐसे हमले के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.”