नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रोड शो के दौरान खुद पर हुए हमले के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया और आरोप लगाया कि पुलिस सिर्फ उसी कहानी का अनुसरण कर रही है जो उसे भाजपा ने दी है. बता दें कि केजरीवाल को शनिवार को मोतीनगर में रोड शो के दौरान आम आदमी पार्टी के असंतुष्ट समर्थक ने कथित रूप से थप्पड़ मार दिया था. केजरीवाल ने बताया कि उनपर नौंवी बार हमला हुआ है और मुख्यमंत्री रहते हुए यह उनपर पांचवां हमला है. केजरीवाल ने कहा कि यह हमला उनपर नहीं बल्कि दिल्ली के जनादेश पर हुआ है. हालांकि भाजपा या पुलिस की ओर इस संबंध में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

 

रविवार को मीडिया से बातचीत करते हुए आम आदमी पार्टी (आप) प्रमुख ने कहा कि बीते रोज एक व्यक्ति ने मुझ पर हमला किया. मुझे नहीं लगता कि इतनी बार किसी और मुख्यमंत्री पर हमला हुआ होगा. केजरीवाल ने कहा कि देश में दिल्ली एकमात्र जगह है जहां मुख्यमंत्री की सुरक्षा विपक्षी पार्टी के हाथों में है. उन्होंने कहा कि मेरी सुरक्षा भाजपा की जिम्मेदारी है. दूसरे सभी राज्यों में मुख्यमंत्री की सुरक्षा राज्य पुलिस की जिम्मेदारी है, जो मुख्यमंत्री के तहत आती है.

सीएम अरविंद केजरीवाल को शख्स ने मारा थप्पड़, खुली जीप में कर रहे थे रोड शो

आप ने 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में 70 सीटों में 67 जीतीं
भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि भगवा पार्टी ने आप को बर्बाद करने के लिए अपनी पूरी कोशिश की है. उन्होंने कहा कि उन्होंने मेरे कार्यालय पर सीबीआई की छापेमारी की. दिल्ली पुलिस ने मेरे घर पर छापा मारा. कुल 33 मामले मेरे खिलाफ दर्ज किए गए हैं. वे शारीरिक तौर पर हमें हटाना चाहते हैं..यह हमला मुझ पर नहीं बल्कि यह दिल्ली पर था. उन्होंने दिल्ली के लोगों द्वारा चुने गए मुख्यमंत्री पर हमला किया. केजरीवाल ने कहा कि भाजपा इस तथ्य को पचा नहीं पा रही है कि आप ने दिल्ली 2015 के विधानसभा चुनावों में 70 सीटों में 67 पर जीत हासिल की थी.

ममता बनर्जी ने अरविंद केजरीवाल पर हमले की निंदा की, कहा- हताश हो गई है बीजेपी

आम आदमी पार्टी का समर्थक था हमलावर सुरेश: दिल्ली पुलिस
उन्होंने पुलिस के उस दावे को खारिज कर दिया कि हमलावर आम आदमी पार्टी का समर्थक था. दिल्ली पुलिस ने शनिवार को कहा था कि शुरुआती जांच में खुलासा हुआ है कि इलाके में कबाड़ी का काम करने वाला 33 वर्षीय हमलावर सुरेश, आम आदमी पार्टी का समर्थक था और पार्टी की रैलियों और सभाओं के आयोजक के तौर पर काम किया करता था. दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त जनसंपर्क अधिकारी अनिल मित्तल ने बताया कि इस संबंध में पुलिस आयुक्त स्तर की एक जांच का आदेश दिया गया है, जो यह पता लगाएगा कि सुरेश को स्वागत कक्ष/समीपवर्ती समूह में आने की अनुमति कैसे दी गई. (इनपुट एजेंसी)

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com