नई दिल्ली. बांग्लादेश के लोकप्रिय अभिनेता फिरदौस अहमद (Ferdous Ahmed) को तुरंत देश से वापस जाने का आदेश दिया गया है और उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया गया है. एक अधिकारी ने मंगलवार को इस बारे में जानकारी दी. दो दिन पहले अभिनेता द्वारा पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के लिए कथित तौर पर चुनाव प्रचार करने से विवाद पैदा हो गया था. पश्चिम बंगाल के प्रदेश भाजपा नेता जय प्रकाश मजूमदार और शिशिर बजोरिया ने शिकायत दर्ज कराने के लिए सोमवार को राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब से मुलाकात की और तृणमूल कांग्रेस द्वारा आचार संहिता के कथित उल्लंघन पर उचित कार्रवाई की मांग की. Also Read - बिहार विधान परिषद जाएंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन, बीजेपी ने दिया एमएलसी का टिकट

इधर, भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने भी मंगलवार को अपने आधिकारिक टि्वटर हैंडल से इस बारे में ट्वीट कर आपत्ति जताई. सुप्रियो ने अपने ट्वीट में फिरदौस अहमद के तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार के समर्थन में रोड शो करने पर सवाल उठाया. उन्होंने पूछा कि ममता बनर्जी विदेशी कलाकार से समर्थन हासिल कर बंगाल की जनता को क्या संदेश देना चाहती हैं. Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में दिखा है कि फिरदौस अहमद और बांग्ला कलाकार अंकुश तथा पायल ने रायगंज लोकसभा सीट से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में रोड शो किया. केंद्र ने मंगलवार को ‘लीव इंडिया’ नोटिस जारी किया और अभिनेता को दिया गया बिजनेस वीजा रद्द कर दिया. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अहमद का नाम ‘काली सूची’ में डाल दिया है. इससे भविष्य में भारत की उनकी यात्रा में बाधा आएगी. Also Read - Army Day 2021: BJP ने सेना दिवस के अवसर पर साझा किया बेहतरीन वीडियो, दिखा जवानों का पराक्रम

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने दिल्ली में कहा, ‘‘बांग्लादेशी नागरिक फिरदौस अहमद द्वारा वीजा उल्लंघन के संबंध में ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन से एक रिपोर्ट मिलने के बाद गृह मंत्रालय ने उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया है और उन्हें लीव इंडिया नोटिस जारी किया है. उन्हें काली सूची में डाल दिया गया है. एफआरआरओ कोलकाता को इन आदेशों की तामील करने को कहा गया है.’’ यह कदम बांग्लादेश के अभिनेता द्वारा कथित तौर पर चुनाव प्रचार करने को लेकर केंद्र के मंगलवार को कोलकाता के विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी (एफआरआरओ) से रिपोर्ट मांगने के कुछ घंटे बाद उठाया गया है.

(इनपुट – एजेंसी)

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com