नई दिल्लीः गुजरात के युवा नेता हार्दिक पटेल को सुप्रीम कोर्ट से तगड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात हाईकोर्ट के उस आदेश को चुनौती देने वाली हार्दिक पटेल की याचिका पर तत्काल सुनवाई से इनकार कर दिया है, जिसमें 2015 के दंगे मामले में उसकी सजा पर रोक लगाने से इनकार किया गया था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हार्दिक पटेल की याचिका पर तत्काल सुनवाई की जरूरत नहीं है क्योंकि हाईकोर्ट का आदेश पिछले साल अगस्त में आया था.

कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने 2015 के विसपुर दंगा मामले में उन्हें दोषी ठहराये जाने के फैसले पर रोक लगाने की अर्जी खारिज करने के गुजरात हाईकोर्ट के आदेश को सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. इस पर आज सुनवाई के लिए आई. उनके वकील हाईकोर्ट के 29 मार्च के आदेश पर रोक लगाने की मांग के साथ मामले पर तुरंत सुनवाई की मांग कर रहे थे. इस फैसले के कारण हार्दिक लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. पटेल ने 12 मार्च को कांग्रेस का दामन थामा था और जामनगर से पार्टी उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने की तैयारियां शुरू कर दी थी. नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख चार अप्रैल है. गुजरात की 26 लोकसभा सीटों के लिए मतदान 23 अप्रैल को होगा.