भोपाल: लोकसभा चुनाव की तैयारियों में राजनीतिक दल जोर शोर से लगे हुए हैं. देश में सात और मध्य प्रदेश में चार चरण में वोट पड़ने वाले हैं. राज्य में पहले चरण का मतदान 29 अप्रैल को 6 संसदीय क्षेत्रों में होने वाला है और बीजेपी ने जहां पांच ससंदीय क्षेत्रों के लिए उम्मीदवार तय कर दिए हैं, वहीं कांग्रेस दो ही उम्मीदवारों के नाम तय कर पाई है. ऐसे में उन उम्‍मीदवारों को मतदाताओं से जनसंपर्क के लिए काफी समय की कमी हो जाती है और उन्‍हें प्रचार के लिए पर्याप्‍त समय नहीं मिल पाता है.कांग्रेस अब तक राज्य के 29 संसदीय क्षेत्रों में से 9 और बीजेपी 18 संसदीय क्षेत्रों के लिए उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर पाई है.

बता दें कि राज्य में चार चरणों में मतदान होने वाला है. पहले चरण में छह संसदीय क्षेत्रों में 29 अप्रैल को वोट पड़ेंगे. इसके लिए मंगलवार को अधिसूचना जारी हो चुकी है और नामांकन भी शुरू हो चुके हैं. पहले चरण की छह संसदीय क्षेत्रों में पांच पर भाजपा और एक पर कांग्रेस का कब्जा है.

देश के चौथे चरण और मध्य प्रदेश के पहले चरण में छह संसदीय क्षेत्रों सीधी, शहडोल, मंडला, जबलपुर, बालाघाट व छिंदवाड़ा में 29 अप्रैल को मतदान होगा. इसके साथ ही इसी दिन छिंदवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में उप-चुनाव भी होगा. भाजपा ने छह में से पांच संसदीय क्षेत्रों- सीधी से वर्तमान सांसद रीति पाठक, जबलपुर से राकेश सिंह, मंडला से फग्गन सिंह कुलस्ते, बालाघाट से ढ़ाल सिह बिसेन और शहडोल से कांग्रेस से भाजपा में शामिल होने वाली हिमाद्री सिंह को उम्मीदवार बनाया है. अभी छिंदवाड़ा से उम्मीदवार के नाम का ऐलान होना बाकी है.

वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस अब तक 6 में से सिर्फ बालाघाट और शहडोल संसदीय क्षेत्र के लिए उम्मीदवारों के नाम का चयन कर पाई है. कांग्रेस मंथन के दौर से गुजर रही है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया से लेकर प्रदेषाध्यक्ष कमलनाथ तक कई नेता जल्दी ही उम्मीदवारों के नामों का ऐलान होने की बात दोहराते आ रहे हैं.