इंदौर: सोशल मीडिया खबरें फैलाने का एक अच्‍छा प्‍लेटफॉर्म है, लेकिन अक्‍सर इसके दुरुपयोग की शिकायतें सामने आती हैं. सोशल मीडिया पर बिना किसी पुष्‍ट‍ि के पीएम नरेंद्र मोदी के इंदौर की लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की खबरें सामने आईं तो बीजेपी के नेताओं को ऐसी खबर से इनकार करना पड़ा. भाजपा ने सोशल मीडिया पर मंगलवार को सामने आयीं उन खबरों को सिरे से खारिज किया, जिनमें दावा किया जा रहा है कि पार्टी की स्थानीय कोर कमेटी ने आगामी लोकसभा चुनावों में इंदौर क्षेत्र से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उम्मीदवारी के प्रस्ताव पर चर्चा की है.

नागपुर लोकसभा सीट पर दलित और ओबीसी वोटरों की भूमिका अहम, गडकरी-पटोले के बीच है टक्‍कर

बीजेपी की शहर इकाई के अध्यक्ष गोपीकृष्ण नेमा ने कहा, “हमारी कोर कमेटी की नियमित बैठक आज जरूर आयोजित हुई थी, लेकिन इस बैठक में इंदौर क्षेत्र से मोदी की उम्मीदवारी को लेकर न तो कोई प्रस्ताव रखा गया, न ही इस प्रस्ताव पर कोई चर्चा की गई.”

बीजेपी अध्यक्ष बन देश को चौंकाया था, अब ‘मास-लीडर’ बनने को कर रहे संघर्ष

नेमा ने कहा, “लोकसभा चुनावों के लिए देश भर में भाजपा के उम्मीदवार तय करना पार्टी के संसदीय बोर्ड के अधिकार क्षेत्र का मामला है.” उन्होंने बताया कि भाजपा की कोर कमेटी की बैठक में लोकसभा अध्यक्ष एवं इंदौर क्षेत्र की सांसद सुमित्रा महाजन के साथ भाजपा के कुछ अन्य वरिष्ठ नेता और स्थानीय विधायक शामिल हुए. महाजन साल 1989 से इंदौर क्षेत्र की लोकसभा में लगातार नुमाइंदगी कर रही हैं. गुजरे 30 सालों के दौरान हुए आठ संसदीय चुनावों में वह इस सीट से निरंतर अजेय रही हैं.

बीजेपी नेता नितिन गडकरी ने बताई अपनी संपत्‍त‍ि, खेती के साथ पत्‍नी के पास हैं 4 कारें

“ताई” के नाम से मशहूर 75 वर्षीय बीजेपी नेता आगामी लोकसभा चुनावों के लिए भी इंदौर से पार्टी के टिकट की दावेदार मानी जा रही हैं. हालांकि, भाजपा ने मध्यप्रदेश की इस सीट से अपना उम्मीदवार फिलहाल घोषित नहीं किया है. इंदौर क्षेत्र में 19 मई को लोकसभा चुनावों के लिये मतदान होना है.

लोकसभा चुनाव 2019: यूपी के स्टार प्रचारकों के लिस्ट में आडवाणी-जोशी का नाम नहीं, 11वें नंबर पर सीएम आदित्यनाथ