बलिया: बलिया के जिलाधिकारी और तहसीलदार के साथ जिलाधिकारी कार्यालय में कथित बदसुलूकी के आरोप में भाजपा के एक नेता को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस अधीक्षक देवेंद्र नाथ ने मंगलवार को बताया कि बलिया शहर में स्थित जिलाधिकारी के कैम्प कार्यालय में सोमवार अपरान्ह विनोद तिवारी नामक भाजपा नेता अपने कई साथियों के साथ पहुंचे और जिलाधिकारी डॉक्टर भवानी सिंह खँगारौत के साथ दुर्व्यवहार किया. यह देख बलिया के तहसीलदार गुलाब चंद पहुँचे तो उनके साथ भी हाथापाई और बदसुलूकी की गयी.

जिलाधिकारी खँगारौत ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली थी कि विनोद तिवारी मतदाताओं को धमका रहे हैं. पकड़ी थाने से जानकारी करने पर पता लगा कि तिवारी के विरुद्ध 12 मुकदमे दर्ज हैं. उनकी ग्राम प्रधान पत्नी के विरुद्ध वित्तीय अनियमितता के मामले में कार्रवाई लम्बित है. खंगारौत ने बताया कि विनोद तिवारी कल उनके कैम्प कार्यालय में आये और उनको अपने पक्ष में करने की कोशिश की. इसके बाद भावावेश में आकर धौंस जमाने वाली बातें की तथा उनके साथ अभद्रता की.

तहसीलदार गुलाब चंद ने बताया कि तिवारी और उसके साथियों ने उनके साथ हाथापाई की और बंधक बनाने की कोशिश करने के साथ—साथ जान से मारने की धमकी भी दी. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि तहसीलदार की शिकायत पर बलिया शहर कोतवाली में विनोद तिवारी के विरुद्ध नामजद मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है.

उधर, विनोद तिवारी ने संवाददाताओं से बातचीत में खुद को भाजपा की जिला कार्यसमिति का सदस्य बताया और कहा कि वह जिलाधिकारी कार्यालय के एक कर्मचारी के फोन कर बुलाने पर जिलाधिकारी से मिलने गये थे. तिवारी ने आरोप लगाया कि जिलाधिकारी और तहसीलदार ने उनके साथ अभद्रता की और मारपीट की कोशिश भी की.