शाहजहांपुर: उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में दूल्हा बनकर पर्चा दाखिल कराने पहुंचे एक प्रत्याशी पर प्रशासन ने बिना इजाजत बारात रूपी जुलूस निकालने के मामले में रिपोर्ट दर्ज की है. मुख्य विकास अधिकारी महेंद्र सिंह तंवर ने मंगलवार को बताया कि संयुक्त विकास पार्टी के प्रत्याशी वैद्य राजकिशन घंटाघर से दूल्हा बनकर साथ में कार्यकर्ताओं को बराती बनाकर बैंड बाजों के साथ कलेक्ट्रेट आए थे इस दौरान उनके साथ बड़ा जलूस था. उन्होंने बताया कि चुनाव आचार संहिता के कारण जिले में धारा 144 लागू है ऐसे में बिना अनुमति उन्होंने बैंड बाजे के साथ जुलूस निकाला था.

इसी मामले को लेकर उप जिलाधिकारी सदर वेद पाल चौहान ने कोतवाली शहर में संयुक्त विकास पार्टी के लोकसभा प्रत्याशी वैद्य राजकिशन के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 तथा 171 (एफ) के तहत सोमवार देर रात मामला दर्ज करा दिया है. जिले के लोकसभा चुनाव में एक प्रत्याशी ने सोमवार को यहां सेहरा बांध कर और घोड़ी पर सवार होकर बैंड बाजे की धुन पर नाचते हुए बारातियों के साथ अनोखे अंदाज में नामांकन पत्र दाखिल कराया. बता दें कि इस दौरान दूल्हा बन पहुंचे प्रत्याशी ने कहा था कि राजनीति का दामाद बनकर जा रहा हूं, दुल्हन तो चुनाव परिणाम के बाद आएगी. चुनाव परिणाम और दुल्हन के आने से पहले ही उनपर कार्रवाई हो गई.

पीएम तो मेरे परिवार से भी कुछ लोग रहे, लेकिन देश को सम्मान नरेंद्र मोदी ने दिलाया: वरुण गांधी

गौरतलब है कि संयुक्त विकास पार्टी के प्रत्याशी वैद्य राज किशन सोमवार को घंटाघर से दूल्हा बनकर घोड़ी पर सवार हुए और बैंड बाजे की धुन पर डांस करते हुए बराती बने कार्यकर्ताओं के साथ थाना सदर बाजार पहुंचे तो वहां पुलिस ने उनका बैंड रोक लिया था. वैद्यराज अपनी घोड़ी पर सवार हुए जा रहे थे तो कलेक्ट्रेट से पहले ही उनकी बारात को रोक लिया गया और पुलिस तथा प्रशासनिक अधिकारियों ने उन्हें घोड़ी से उतार दिया इसके बाद वह कलेक्ट्रेट तक पैदल गए और पर्चा भरा. वैद्य राज किशन पिछले विधानसभा चुनाव में अर्थी पर लेट कर नामांकन पत्र भरने गए थे इससे पूर्व भैंसा गाड़ी पर सवार होकर भी नामांकन करा चुके हैं अपने जीवन में कई चुनाव लड़ कर अपनी किस्मत आजमा चुके हैं.