नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव में सभी दल अपने-अपने उम्मीदवारों को जिताने की जी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं. इसी क्रम में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमिरंदर सिंह अपनी सरकार के मंत्रियों से कहा है कि वह अपने-अपने इलाके में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करें. कैप्टन ने सभी मंत्रियों को इस बाबत चेतावनी भी जारी की है कि जिन इलाकों के वे जनप्रतिनिधि हैं, वहां पर खास तौर से कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित हो, वरना राज्य सरकार के मंत्रिमंडल में उनकी कुर्सी को खतरा हो सकता है. आपको बता दें कि पंजाब में लोकसभा चुनाव के आखिरी यानी सातवें चरण में 19 मई को मतदान होना है.

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब सरकार के अपने मंत्रियों को स्पष्ट शब्दों में चेतावनी दी है. इसके पीछे उनका कहना है कि ऐसे निर्देश उन्हें पार्टी हाईकमान की तरफ से ही मिले हैं. कैप्टन सिंह ने अपने मंत्रियों से कहा है, ‘पार्टी हाईकमान के निर्देशानुसार, राज्य सरकार के जो मंत्री अपने प्रभावक्षेत्र में पार्टी के उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित नहीं करा पाते हैं, उन्हें लोकसभा चुनाव के बाद अपने मंत्रीपद से हाथ धोना पड़ सकता है.’ कैप्टन के इस निर्देश में साफ शब्दों में मंत्रियों से कह दिया गया है कि वे अपने-अपने इलाकों में कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों की जीत को पक्का करें.

कैप्टन अमिरंदर सिंह के पंजाब सरकार के मंत्रियों को दिया गया यह निर्देश, दरअसल कांग्रेस पार्टी के भीतर भाजपा के धुआंधार प्रचार से उपजी स्थिति का ही नतीजा है. दरअसल, मार्च 2017 में 117 सदस्यीय विधानसभा में 77 सीटों पर जोरदार जीत के अगुवा अमरिंदर अब लोकसभा चुनाव में भी अपनी और अपनी कांग्रेस पार्टी की स्थिति मजबूत देखना चाहते हैं. लोकसभा चुनाव में अगर कांग्रेस पार्टी का प्रदर्शन अपेक्षित नहीं रहा, तो यह पार्टी के भीतर उनका कद और रुतबा घटाने वाली बात होगी. यही वजह है कि बीते दिनों मीडिया के साथ बातचीत में भी उन्होंने कहा था कि वह पंजाब की सभी 13 सीटों पर पार्टी की जीत के लक्ष्य के साथ मैदान में हैं.