चंदौली: उत्तर प्रदेश के चंदौली लोकसभा क्षेत्र के एक गांव में पैसा देकर रात में ही मतदान की स्याही लगवाने का आरोप लगाया गया है. सूचना मिलने पर जब तक यूपी 100 की पुलिस पहुंची, स्याही लगाने वाले भाग चुके थे. ग्रामीणों को जैसे ही इसकी जानकारी हुई, आसपास के गांव से काफी भीड़ एकत्र हो गई और सभी लोग हंगामा करने लगे. चंदौली के अलीनगर थाना क्षेत्र के ताराजीवनपुर गांव की हरिजन बस्ती में पैसा बांटने व आधा दर्जन लोगों के अंगूठों पर निशान लगाने को लेकर गठबंधन समर्थक आक्रोशित हो गए और कार्रवाई की मांग को लेकर अलीनगर थाने पर धरने पर बैठ गये.

विपक्ष को एकजुट करने के मध्यस्थ बने CM चंद्रबाबू नायडू, मायावती-अखिलेश को भेंट किए आम

आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) समर्थक व पूर्व प्रधान अपने कुछ समर्थकों के साथ बस्ती में 500-500 रुपये देकर लोगों के अंगूठों पर निशान लगा रहे थे. ग्रामीणों ने बताया कि उंगली पर स्याही लगाने वाले कह रहे थे कि ‘क्या आप लोग भाजपा को वोट देंगे? अब तो आप लोग वोट नहीं दे सकते. यह बात किसी को भी बताना मत.’ जानकारी मिलते ही क्षेत्रीय अधिकारी (सीओ) त्रिपुरारी पांडेय भी दल बल के साथ मौके पर पहुंच गए. बताया जा रहा है कि वोट देने बूथ तक नहीं जाने के लिए स्याही लगाई जा रही थी और पैसा बांटा जा रहा था. त्रिपुरारी पांडेय का कहना है कि शिकायत पर पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

वहीं, गठबंधन प्रत्याशी डॉ. संजय चौहान, सकलडीहा विधायक प्रभु नारायण सिंह यादव कार्रवाई की मांग को लेकर दर्जनों समर्थकों के साथ अलीनगर थाने पर धरने पर बैठ गए. इसके बाद तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. चंदौली सदर उपलिाधिकारी (एसडीएम) के. आर हर्ष ने बताया, “शिकायतकर्ता पुलिस स्टेशन में थे. हम उनकी शिकायत के अनुसार कार्रवाई करेंगे. मतदान ईवीएम से होता है. उंगली या फिर अंगूठे पर स्याही लगने से मतदान नहीं हो जाता है. उन्हें उस प्राथमिकी में उल्लेख करना होगा कि उन पर स्याही जबरदस्ती लगाई गई थी.”

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com