चंडीगढ़: निर्वाचन आयोग ने चंडीगढ़ से भाजपा की प्रत्याशी किरण खेर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. यह नोटिस उनके ट्विटर पर एक वीडियो साझा करने के बाद आया है जिसमें बच्चे उनके लिए प्रचार करते नजर आ रहे हैं. हालांकि, किरण ने अपने जवाब में ‘‘गलती’’ स्वीकार करते हुए कहा कि यह ‘‘अनजाने’’ में हुआ है.

चुनाव आयोग ने अभिनेत्री से नेता बनीं खेर को 24 घंटों के भीतर जवाब देने को कहा है. तीन मई को जारी नोटिस में कहा गया, “आपने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो साझा किया है जिसमें दिख रहा है कि आपके पक्ष में ‘किरण खेर के लिए वोट करें’ और ‘अब की बार मोदी सरकार’ के नारों के जरिए चुनाव प्रचार करने के लिए बच्चों का सहारा लिया गया है.”

नोटिस में इस बात का उल्लेख है कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने जनवरी 2017 में चुनाव आयोग से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया था कि चुनाव अधिकारियों या राजनीतिक दलों की तरफ से बच्चों को चुनाव संबंधित किसी भी गतिविधि में किसी भी रूप में शामिल नहीं किया जाए. नोटिस के मुताबिक, इसके बाद चुनाव आयोग ने निर्देश दिया था कि सभी राजनीतिक पार्टियों एवं चुनाव अधिकारियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि बच्चों को चुनाव संबंधित किसी भी कार्य में शामिल नहीं किया जाना चाहिए.

इसके बाद किरण ने कहा कि उन्होंने चुनाव आयोग को अपना जवाब भेज दिया है. उन्होंने कहा, ‘‘कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं ने यह भेजा और मेरी सोशल मीडिया टीम ने इसे साझा किया… कई बार काम के बोझ और उत्साह के कारण लोग ऐसा कर देते हैं, जो गलत है. बच्चों का इसके लिए कतई इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. मैं इससे सहमत हूं और यह जानबूझकर नहीं किया गया… इसलिए यह बहुत गलत है, अच्छा नहीं है और ऐसा नहीं होना चाहिए.’’

खेर चंडीगढ़ लोकसभा सीट से फिर से चुनाव लड़ रही हैं और उन्हें चार बार के सांसद एवं कांग्रेस प्रत्याशी पवन कुमार बंसल तथा आप के हरमोहन धवन के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारा गया है. चंडीगढ़ में लोकसभा चुनाव के लिये अंतिम चरण में यानी 19 मई को मतदान होंगे.