नई दिल्लीः बिहार में महागठबंधन के बीच सीटों को लेकर पैदा विवाद सुलझ गया है. गुरुवार देर शाम में इसको लेकर सहमति बनने के बाद कांग्रेस पार्टी ने राज्य की 4 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं. पार्टी ने अपनी मौजूदा सांसद रंजीत रंजन को सुपौल से एक बार फिर मैदान में उतारा है. समस्तीपुर सुरक्षित सीट से डॉ. अशोक कुमार को उम्मीदर को बनाया गया है. पार्टी ने 2014 के चुनाव में भी डॉ. अशोक कुमार को ही उम्मीदवार बनाया था, लेकिन वह लोजपा के रामचंद्र पासवान से केवल 57 हजार वोटों से हार गए थे. मुंगेर से नीलम देवी को टिकट दिया गया है. नीलम देवी बाहुबली नेता अनंत सिंह की पत्नी हैं. सासाराम से पार्टी की वरिष्ठ नेता मीरा कुमार को टिकट दिया गया है.

गौरतलब है कि राज्य में राजद, रालोसपा, हम, वीआईपी और कांग्रेस महागठबंधन में चुनाव लड़ रही है. राज्य की 40 में 9 सीटें कांग्रेस को मिली हैं जबकि 20 सीटों पर राजद ने उम्मीदवार उतारने की घोषणा की थी. एक दिन पहले गुरुवार को महागठबंधन पर उस समय ग्रहण मंडराते दिख रहा था, जब राजद सुपौल पर अपनी दावेदारी करने लगा. 2014 के मोदी लहर में भी सुपौल से कांग्रेस की नेता रंजीत रंजन ने जीत हासिल किया था. इसके अलावा मधेपुरा सीट पर पेंच फंसा हुआ था. मधेपुरा पर रंजीत रंजन के पति पप्पू यादव ने निर्दलीय नामांकन दाखिल किया है.