रायपुर: कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों में से पांच पर अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है. पार्टी ने अपने तीन मौजूदा विधायकों को लोकसभा चुनाव के लिए टिकट दी है. पार्टी ने शनिवार देर रात अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सरगुजा, बस्तर, रायगढ़ और कांकेर सीटों और अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित जांजगीर-चांपा सीट के लिए प्रत्याशियों के नामों का ऐलान किया. पार्टी ने अभी सामान्य श्रेणी की छह सीटों- रायपुर, महासमुंद, राजनांदगांव, बिलासपुर, कोरबा और दुर्ग के लिए उम्मीदवारों के नामों का ऐलान नहीं किया है. साल 2014 के आम चुनाव ने राज्य की 11 लोकसभा सीटों में से 10 पर जीत दर्ज की थी. दुर्ग लोकसभा सीट से कांग्रेस के एकमात्र उम्मीदवार ताम्रध्वज साहू जीते थे. राज्य में 11,18 और 23 अप्रैल को तीन चरणों में मतदान होना है. भाजपा ने अभी अपने प्रत्याशियों का ऐलान नहीं किया है.

बीजेपी- कांग्रेस के बीच 100 सीटों पर महामुकाबला, 224 सीटों में कांग्रेस रही थी दूसरे स्‍थान पर

कांग्रेस ने प्रेम नगर सीट से विधायक और प्रतिष्ठित आदिवासी नेता खेलसाय सिंह को सरगुजा लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है. चौथी बार विधायक निर्वाचित हुए सिंह 1991,1996 और 1999 में सरगुजा लोकसभा सीट से सांसद रह चुके हैं. चित्रकोट विधानसभा सीट से विधायक और आदिवासी नेता दीपक बैज को बस्तर लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है.

बीजेपी अध्यक्ष बन देश को चौंकाया था, अब ‘मास-लीडर’ बनने को कर रहे संघर्ष

कांग्रेस ने धर्मजयगढ़ सीट से विधायक लालजीत सिंह राठिया को रायगढ़ लोकसभा सीट से टिकट दिया है. उनके पिता चनेश राम राठिया छत्तीसगढ़ के अलग होने से पहले मध्य प्रदेश में कांग्रेस के विधायक रहे चुके हैं. इसके अलावा, कांग्रेस ने बृजेश ठाकुर को कांकेर लोकसभा सीट से उतारा है. वह फिलहाल कांकेर जिला पंचायत सीट के सदस्य हैं. उनके पिता सत्यनारायण सिंह ठाकुर और दादा रत्न सिंह ठाकुर भी अविभाजित मध्यप्रदेश में कांग्रेस से विधायक रह चुके हैं.

कांग्रेस के पूर्व सांसद परसराम भारद्वाज के बेटे रवि भारद्वाज जांजगीर चांपा (अजा) लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे. राज्य कांग्रेस के प्रवक्ता आरपी सिंह ने बताया, सभी पांच उम्मीदवार अपने अपने क्षेत्रों में सक्रिय हैं. कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव में जिस तरह से भाजपा को सत्ता से बेदखल किया है उसी तरह पार्टी राज्य की सभी लोकसभा सीटें भी जीतेगी.