इंदौर. मध्यप्रदेश के देवास लोकसभा क्षेत्र में इस बार चुनावी सुर-ताल एकदम बदले हुए हैं, क्योंकि सांसदी के लिए मुख्य भिड़ंत दो ऐसे नए-नवेले चेहरों के बीच है जो पर्चा भरने से पहले, सक्रिय राजनीति से कोसों दूर थे. अनुसूचित जाति (एससी) के लिए आरक्षित इस सीट से कांग्रेस ने कबीर वाणी के मशहूर लोक गायक प्रहलाद सिंह टिपानिया (65) को टिकट दिया है. वहीं भाजपा ने उम्मीदवारी के लिए महेंद्र सिंह सोलंकी (35) पर भरोसा जताया है. सोलंकी सिविल जज के पद से इस्तीफा देकर चुनावी राजनीति में उतरे हैं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

अब चेहरे नए हैं, तो चुनाव प्रचार का तरीका भी बदला हुआ है. टिपानिया जब अपने लिए वोट मांगने के वास्ते चुनावी मंच पर पहुंचते हैं, तो उनके हाथ में तंबूरा होता है और वह इसके इस्तेमाल से लोक गीतों की तान छेड़कर मतदाताओं को लुभाने की कोशिश करते देखे जा सकते हैं. देवास लोकसभा क्षेत्र के शुजालपुर कस्बे में बीते शनिवार को जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रचार के लिए पहुंचे, तो उनकी सभा की शुरुआत टिपानिया के मालवी बोली में गाए लोक गीत “जरा धीरे-धीरे गाड़ीहांको मेरे राम गाड़ी वाले” से हुई. राहुल अपने मोबाइल से कांग्रेस उम्मीदवार की गायकी का वीडियो बनाते देखे गए. बाद में उन्होंने इस वीडियो को अपने टि्वटर खाते पर साझा भी किया.

एक्टर से नेता बने भाजपा प्रत्याशी का एलान- भोजपुरी में बनाऊंगा पीएम मोदी की बायोपिक

लोक संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए वर्ष 2011 में पद्मश्री से सम्मानित प्रहलाद सिंह टिपानिया ने “पीटीआई-भाषा” से कहा, “मैं जन-मानस में सकारात्मक सोच पैदा करने के मकसद से राजनीति में आया हूं. लोक संगीत इसमें मददगार साबित हो सकता है.” देश-विदेश में गायन प्रस्तुतियां दे चुके कांग्रेस उम्मीदवार ने वादा किया कि चुनाव जीतने पर वह क्षेत्रीय मतदाताओं को बेहतर बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने के प्रयासों के साथ लोक गायकी को आगे बढ़ाने के लिए भी काम करेंगे.

Video: सुल्तानपुर में पैसे बांटने के आरोप पर बवाल, मतदान से पहले मेनका गांधी के समर्थकों से मारपीट

उधर, देवास से भाजपा उम्मीदवार महेंद्र सिंह सोलंकी अपनी सभाओं में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर खासकर राष्ट्रीय सुरक्षा, एकता और अखंडता के लिए वोट मांग रहे हैं. जनता की अदालत में पहुंचे पूर्व जज सोलंकी ने कहा, “जब मैं न्यायाधीश था, तब उन्हीं लोगों की गुहार सुन सकता था जो इंसाफ के लिए मेरी अदालत में आते थे. लेकिन राजनीति में प्रवेश के बाद जन सेवा का मेरा दायरा काफी बढ़ गया है. अब मैं राजनेता के तौर पर वंचित और पीड़ित लोगों के पास खुद पहुंचकर उनकी समस्याएं हल कर सकता हूं.” देवास लोकसभा क्षेत्र में 10.97 लाख मतदाता हैं जहां सातवें और आखिरी चरण में 19 मई को मतदान होना है.

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में इन सीटों पर होगी कांटे की टक्कर, ये दिग्गज हैं मैदान में

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में इन सीटों पर होगी कांटे की टक्कर, ये दिग्गज हैं मैदान में

वर्ष 2014 के पिछले लोकसभा चुनावों में देवास सीट से भाजपा के मनोहर ऊंटवाल सांसद निर्वाचित हुए थे. पिछले साल नवंबर में हुए विधानसभा चुनावों के दौरान ऊंटवाल आगर सीट से चुनाव लड़ कर पार्टी के विधायक चुने गए थे. इसके बाद बतौर सांसद अपना कार्यकाल पूरा होने से पहले ही उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था.