चेन्नई: पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम की राजनीतिक विरासत को आगे ले जाने की कोशिश कर रहे कार्ति चिदंबरम अपने पिता के उस निर्वाचन क्षेत्र से किस्‍मत आजमा रहे हैं, जहां पिछले चुनाव में उनके पिता को हार का सामना करना पड़ा था. इसी क्रम में तमिलनाडु में शिवगंगा लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार कार्ति चिदंबरम ने करीब 47 करोड़ रुपए की चल एवं अचल संपत्ति घोषित की है. ब्रिटेन की एक संपत्ति में उनका संयुक्त स्वामित्व शामिल है.

शिवगंगा सीट के लिए चुनाव 18 अप्रैल को होना है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के पुत्र कार्ति 2014 में इसी सीट से चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गए थे. एयरसेल-मैक्सिस और आईएनएक्स मीडिया मामलों में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय जैसी केंद्रीय एजेंसियों की जांचों का सामना कर रहे कार्ति ने अपने हलफनामे में घोषणा की है कि इनमें से किसी भी मामले में आरोप तय नहीं हुए हैं.

उन्होंने अपने नामांकन पत्र के साथ दाखिल अपने चुनावी हलफनामे में कहा है कि इनके अलावा एक स्थानीय अदालत भूमि बिक्री का एक हिस्सा नकद में प्राप्त करने की घोषणा नहीं करने को लेकर एक आयकर मामले पर गौर कर रही है. उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ कुल आठ मामले लंबित हैं जिसमें कुछ स्थानीय मामले शामिल हैं, यद्यपि ”इनमें से किसी में भी आरोप तय नहीं हुए हैं.”

कार्ति की वार्षिक आय में गत पांच वर्षों में मामूली बढ़ोतरी दिखाई गई है. वित्तीय वर्ष 2013..2014 में यह 1.68 करोड़ रुपए से कुछ अधिक थी, 2017-2018 में यह बढ़कर 1.75 करोड़ रुपए हो गई.उनकी कुल देनदारी 8,97,44,503 रुपए है.

कांग्रेस नेता ने अपने हलफनामे में घोषणा की कि उनकी चल संपत्ति कुल कीमत 24.13 करोड़ रुपए है. उनकी अचल संपत्ति की वर्तमान बाजार कीमत 22.88 करोड़ रुपए है. इसमें ब्रिटेन की एक संपत्ति में उनका संयुक्त स्वामित्व शामिल है. कार्ति ने कहा कि इसके अलावा उनके पास कर्नाटक में एक कृषि भूमि और चेन्नई में एक वाणिज्यिक इमारत है.