शिवपुरी: मध्य प्रदेश के गुना संसदीय क्षेत्र से पिछले चार बार से लगातार जीत हासिल कर रहे कांग्रेस महासचिव व पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस बात का दर्द है कि तमाम विकास कार्यो के बावजूद वह गुना शहर व शिवपुरी शहर विधानसभा क्षेत्र से हार जाते हैं. उन्होंने कार्यकर्ताओं से जानना चाहा कि अगर उनकी कोई कमी है तो बताएं. सिंधिया ने रविवार को शिवपुरी विधानसभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच अपने दर्द का इजहार किया.

नितिन गडकरी का संदेश- पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक का श्रेय कोई न ले, न ही करे इस पर राजनीति

उन्होंने कहा, ‘संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले अशोकनगर, शिवपुरी और गुना जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों से पार्टी हजारों वोटों के अंतर से जीतती है, मगर गुना शहर व शिवपुरी विधानसभा सीटों से हार जाती है. आखिर क्या बात है कि इन दो विधानसभा क्षेत्रों से हार मिलती है.’

ये है राहुल गांधी की न्यूनतम आय गारंटी स्कीम, इस तरह आपको मिलेंगे 12 हजार प्रतिमाह

सिंधिया ने कहा, ‘अगर मेरी कोई गलती है, मुझमें कोई कमी है तो बताएं, उसे मैं सुधारूंगा.’ गुना संसदीय क्षेत्र सिंधिया परिवार की परंपरागत सीटों में है. यहां से ज्योतिरादित्य सिंधिया की दादी विजयाराजे सिंधिया पांच बार जीती हैं, जबकि उनके पिता माधवराव सिंधिया ने चार बार जीत दर्ज की है. वहीं इस संसदीय सीट से ज्योतिरादित्य वर्ष 2002 से लगातार चार बार से जीतते आ रहे हैं.