नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की एक रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को ‘भ्रष्टाचारी नंबर 1’ कहने पर कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है. कांग्रेस ने इसे गलत बताते हुए कार्रवाई की मांग की है. बता दें कि पीएम मोदी ने कहा था कि राजीव गांधी का जीवन भ्रष्टाचारी नंबर एक के तौर पर ख़त्म हुआ था. इसे लेकर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी. कांग्रेस ने अब इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है.

पीएम का राजीव गांधी पर तंज, कहा-‘मिस्टर क्लीन’ का जीवन ‘भ्रष्टाचारी नंबर-1’ के रूप में हुआ था खत्म

वहीं, कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में एक अन्य हलफनामे में चुनाव आयोग द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को आदर्श आचार संहिता उल्लंघन मामले में क्लीन चिट देने के विरुद्ध भी हस्तक्षेप करने को कहा है. कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने कहा, “दोनों (मोदी, शाह) के द्वारा दिए गए भाषणों को जनप्रतिनिधि अधिनियम 1951 के अनुच्छेद 123ए के तहत ‘भ्रष्ट आचरण’ घोषित किया जाना चाहिए.”

राजीव गांधी को भ्रष्टाचारी बताने का प्रियंका ने दिया जवाब, सुनाई दुर्योधन के अहंकार की कहानी

राजीव गांधी के खिलाफ मोदी के बयान का हवाला देते हुए कांग्रेस ने कहा कि चुनाव आयोग ने इसी लहजे में भाषण देने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती, समाजवादी पार्टी (सपा) नेता आजम खान के खिलाफ कार्रवाई की थी.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com