नई दिल्ली: ‘मुस्लिम वोट देंगे तो उन्हें नौकरी मिलेगी’, जैसा बयान देने के बाद मेनका गांधी (Maneka Gandhi) ने विकास लिए अब नया फॉर्मूला निकाल लिया है. मेनका ने एबीसीडी (ABDC) ग्रेड बनाया है. लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में जहां BJP को ज़्यादा वोट मिलेंगे, वहां विकास के कार्य प्राथमिकता से कराएंगी. जहां वोट मिलने का प्रतिशत सबसे कम होगा, वो इलाका ग्रुप डी में रखेंगी और वहां विकास सबसे देर में पहुंचेगा. इससे पहले मेनका गांधी कह चुकी हैं कि मुस्लिम वोट नहीं देते हैं. अगर वोट नहीं देंगे तो उनके काम नहीं होंगे, नौकरी नहीं मिलेगी. हम महात्मा गांधी की औलाद नहीं हैं, जो देते जाएंगे. चुनाव आयोग (Election Commission) ने इस बयान के लिए मेनका को नोटिस जारी किया था. मेनका ने अब विकास के लिए नया और विवादित फॉर्मूला दे दिया है.

मेनका गांधी बोलीं- नौकरी चाहिए तो मुस्लिम वोट दें, वर्ना हम महात्मा गांधी की छठी औलाद नहीं, जो देते जाएंगे

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी सुल्तानपुर लोकसभा सीट (Sultanpur Lok Sabha Seat) से बीजेपी की प्रत्याशी हैं. मेनका गांधी इस समय पीलीभीत (Pilibhit Lok Sabha Seat) से सांसद हैं. मेनका ने अपने संसदीय क्षेत्र पीलीभीत (जहां से मेनका के बेटे वरुण गांधी लोकसभा प्रत्याशी बनाए गए हैं) में चुनाव प्रचार के दौरान लोगों से कहा कि पीलीभीत से हम हमेशा जीतते आए हैं. गांवों में ज्यादा काम हो, इसलिए हम कुछ पैरामीटर बनाएंगे. पैरामीटर ये होगा कि हम गांवों को A, B, C, D में बांट देंगे.

मेनका ने कहा कि जी गांवों से हमें 80 प्रतिशत वोट मिलेंगे, वो ए कैटेगरी में रहेंगे. जहां 60 प्रतिशत वोट मिलेंगे वो बी कैटेगरी में, जहां 50 प्रतिशत वोट मिलेंगे, वो सी कैटेगरी में, जबकि जहां 50 प्रतिशत से कम वोट मिलेंगे, वो डी ग्रुप में रखे जाएंगे. ए कैटेगरी वाले इलाके में सबसे पहले विकास कराया जाएगा. जब ए वाले में काम पूरा हो जाएगा, इसके बाद बी में, फिर सी में और फिर सबसे बाद में डी कैटेगरी वाले गांव में विकास के काम कराए जाएंगे.

मेनका गांधी को हेमा मालिनी का जवाब- मुस्लिम हमें वोट दें या न दें, फिर भी हम उनकी मदद करेंगे

इससे पहले 12 अप्रैल को केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने मुस्लिम मतदाताओं (Muslim Voter’s) से कहा था कि वे आगामी लोकसभा चुनाव में उनके पक्ष में मतदान करें क्योंकि मुसलमानों को चुनाव के बाद उनकी जरूरत पड़ेगी. मेनका गांधी ने मुस्लिम बहुल क्षेत्र तूराबखानी में एक चुनावी सभा में कहा था, ‘मैं लोगों के प्यार और सहयोग से जीत रही हूं लेकिन अगर मेरी यह जीत मुसलमानों के बिना होगी तो मुझे बहुत अच्छा नहीं लगेगा.’’ मेनका ने कहा, ‘‘इतना मैं बता देती हूं कि फिर दिल खट्टा हो जाता है. फिर जब मुसलमान आता है काम के लिये, फिर मै सोचती हूं कि नहीं रहने ही दो क्या फर्क पड़ता है. आखिर नौकरी भी तो एक सौदेबाजी ही होती है, बात सही है या नहीं?’ ये नहीं कि हम लोग महात्मा गांधी की छठी औलाद हैं कि हम देते ही जाएंगे, देते ही जाएंगे और फिर इलेक्शन में मार खाते जाएंगे. इस बयान को लेकर मेनका को चुनाव आयोग ने नोटिस दिया है. इसके बाद उन्होंने एक बार फिर विवादित फॉर्मूला बता दिया है.

मेनका गांधी इस बार सुल्तानपुर से चुनाव लड़ रही हैं जबकि उनके पुत्र वरूण गांधी (Varun Gandhi) उनकी सीट पीलीभीत से चुनाव लड़ रहे हैं. मेनका पीलीभीत में भी चुनाव प्रचार कर रही हैं. पीलीभीत में तीसरे चरण में 23 अप्रैल को मतदान होना है.

लोकसभा चुनाव 2019 की विस्तृत ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें India.com