हरिद्वार. लोकसभा चुनाव के दौरान हिंदू धर्म को लेकर दिए गए बयान को लेकर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPM) के दिग्गज नेता सीताराम येचुरी घिर गए हैं. येचुरी के खिलाफ योग गुरु बाबा रामदेव ने उत्तराखंड के हरिद्वार में एफआईआर दर्ज कराई है. सीताराम येचुरी ने बीते दिनों अपने एक बयान में कहा था कि रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक महाकाव्यों में भी हिंसा और लड़ाई भरी हुई है. इसके बावजूद आप कहते हैं कि हिंदू हिंसक नहीं हैं. येचुरी के इसी बयान को लेकर योग गुरु रामदेव ने उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

योग गुरु रामदेव ने सीताराम येचुरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के बाद कहा कि माकपा नेता का यह बयान हमारे पूर्वजों का अपमान है. रामदेव ने कहा, ‘हिंदू समाज कभी हिंसक नहीं था. फिर भी येचुरी ने इस तरह का विवादित बयान दिया. यह धार्मिक और सामाजिक पाप है. इसलिए हम लोगों ने सीताराम येचुरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है.’ एफआईआर कराने वालों में रामदेव के अलावा हरिद्वार के कुछ साधु-संत भी शामिल हैं. रामदेव ने कहा कि हिंदू धर्म और महाकाव्यों के खिलाफ इस तरह का बयान देने वाले पर चुनाव आयोग को सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हम लोगों ने पुलिस से मांग की है इस बयान की गंभीरता से जांच कराई जाए. रामदेव ने यह भी कहा कि देशभर में कम्युनिस्टों का बहिष्कार किया जाना चाहिए.

आपको बता दें कि बीते दिनों माकपा नेता सीताराम येचुरी ने मध्यप्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर के खिलाफ हमला बोलते हुए यह बयान दिया था. येचुरी ने अपने बयान में कहा था, ‘साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर कहती हैं कि हिंदुओं का हिंसा में विश्वास नहीं है. लेकिन हम-आप जानते हैं कि इतिहास में कई राजा अपने साम्राज्य के लिए लड़ाई करते रहे हैं. यहां तक कि रामायण और महाभारत में भी लड़ाई और हिंसा का जिक्र है. लेकिन एक प्रचारक के तौर पर आप इसे सिर्फ महाकाव्य बताते हैं और दावा करते हैं कि हिंदू हिंसक नहीं हैं.’