नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी(आप) दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार अभियान में तेजी लाएगी. पार्टी ने इसके साथ ही यह भी संकेत दिए है कि समझौता होने की स्थिति में पार्टी अभी भी कांग्रेस के साथ गठबंधन कर सकती है. आप-कांग्रेस गठबंधन के बारे में मंगलवार सुबह फिर से कयास लगाए जाने लगे थे, लेकिन आप नेता और दिल्ली के मंत्री गोपाल राय ने कहा कि कांग्रेस के निर्णय लेने के बाद ही गठबंधन हो सकता है.

PM मोदी के करीबी इस कांग्रेसी को BJP में शामिल होने का मिला ऑफर, दिया ये जवाब

उन्होंने कहा, “पार्टी कांग्रेस के साथ तभी गठबंधन करेगी, जब कांग्रेस कहेगी कि वह गठबंधन के लिए राजी है. हम फिलहाल चुनाव प्रचार में अपना ध्यान केंद्रित कर रहे हैं.” पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित आप के साथ गठबंधन करने के पूरी तरह खिलाफ है, जबकि कांग्रेस का एक धड़ा भाजपा को चुनौती देने के लिए आप के साथ गठबंधन करना चाहता है.

CONFIRM: शत्रुघ्न ने 30 साल निभाया BJP का साथ, अब थामेंगे कांग्रेस का हाथ, यहां से मिलेगा टिकट

राय ने कहा कि आप आठ ‘वॉर रूम’ बनाएगी, जिनमें से प्रत्येक लोकसभा में एक वॉर रूम और पार्टी कार्यालय में एक केंद्रीय वॉर रूम बनाया जाएगा. राय ने कहा, “लोकसभा क्षेत्र के लिए सात और विधानसभा क्षेत्र के लिए 70 पर्यवेक्षक होंगे. कोई भी पर्यवेक्षक उस क्षेत्र का नहीं होगा. जिन लोगों को पर्यवेक्षक तैनात किया जाएगा, वे अपने क्षेत्रों से दूर विभिन्न क्षेत्रों में तैनात होंगे.” उन्होंने कहा, “कुल मिलाकर, जमीनी स्तर पर 1.5 लाख लोग चुनाव प्रचार में शामिल होंगे. दूसरे राज्यों के हमारे कार्यकर्ता भी अंतिम समय में हमारे चुनाव प्रचार से जुड़ेंगे.”