नयी दिल्ली: नमो टीवी पर दिखाये जाने वाले सभी रिकार्डेड कार्यक्रमों को बिना प्रमाणन के नहीं दिखाये जाने के चुनाव आयोग के निर्देश के एक दिन बाद दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) ने उसकी मंजूरी के बिना भाजपा को इस चैनल पर कोई कार्यक्रम नहीं प्रसारित करने का निर्देश दिया है.

सीईओ ने बृहस्पतिवार को कहा था कि चूंकि नमो टीवी भाजपा चला रही है, ऐसे में प्रसारित किये जाने वाले सभी रिकार्डेड कार्यक्रमों को मीडिया प्रमाणन और दिल्ली के निगरानी समिति द्वारा पूर्व प्रमाणित किया जाना चाहिए और पूर्व-प्रमाणन के बिना प्रदर्शित सभी राजनीतिक प्रचार सामग्री को तुरंत हटा दिया जाना चाहिए. चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश के बाद दिल्ली के सीईओ ने भाजपा को पत्र लिख कर बिना मंजूरी वाली सभी राजनीतिक सामग्री हटाये जाने को सुनिश्चित करने को कहा है.

नमो टीवी पर एक्शन में चुनाव आयोग, पूरा कंटेंट हटाने के निर्देश

कांग्रेस ने की थी शिकायत
अधिकारियों ने बताया कि एक एहतियाती उपाय के तहत दो अधिकारियों को नमो टीवी देखने और इसकी सामग्री की निगरानी के लिए तैनात किया गया है. कांग्रेस ने चुनाव आयोग के समक्ष चैनल के बारे में एक शिकायत दायर की थी जिसके बाद आयोग ने दिल्ली के सीईओ को इस मामले में एक रिपोर्ट दायर करने को कहा था.

PM नरेंद्र मोदी 26 अप्रैल को करेंगे नामांकन, काशी में इस दिन को ग्रैंड-शो बनाने की तैयारी में भाजपा

सूचना प्रसारण मंत्रालय को भेजी गई थी नोटिस
पिछले सप्ताह, चुनाव आयोग ने सूचना प्रसारण मंत्रालय को नोटिस जारी करके उससे ‘नमो टीवी’ पर रिपोर्ट मांगी थी. कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने आयोग से यह निर्देश देने का अनुरोध किया था कि मंत्रालय आचार संहिता के उल्लंघन पर चैनल पर रोक लगाए. बताया गया है कि सूचना प्रसारण मंत्रालय ने अपने जवाब में कहा कि ‘नमो टीवी’ डीटीएच सेवा प्रदाताओं द्वारा शुरू किया गया विज्ञापन प्लेटफार्म है जिसे सरकारी मंजूरी की जरूरत नहीं है.