बेंगलुरू: कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन के बीच लोकसभा चुनावों में मतभेदों से चिंतित कांग्रेस पुराने मैसूरू क्षेत्र विशेषकर मांडया में स्थानीय नेताओं के बीच मतभेद दूर करने में जुटी है. कांग्रेस-जद(एस) के बीच तुमकुर, मांडया और हासन समेत कई इलाकों में मतभेद उभरे हैं. कांग्रेस कार्यकर्ता यहां जद(एस) उम्मीदवार के चुनाव प्रचार अभियान में सक्रियता से भाग नहीं ले रहे हैं. वह सीटों के बंटवारे को लेकर नाखुश हैं.

कार्यकर्ताओं के ठंडे रवैये से कांग्रेस को इस बात की चिंता है कि जद(एस) कार्यकर्ता भी चिकबल्लापुर, कोलार, उत्तरी बेंगलुरू और बेंगलुरू ग्रामीण में ऐसी ही प्रतिक्रिया दे सकते हैं, जहां पर कांग्रेस के उम्मीदवार चुनाव में हैं.

जब आतंकियों के शिविर जलते दिखते हैं तो हनुमान जी की याद आती है: सीएम योगी

ऐसे में कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव और कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया ने मंगलवार देर रात मांडया के पार्टी नेताओं से मुलाकात कर उन्हें इस सीट से मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के बेटे एवं जद(एस) उम्मीदवार निखिल कुमारस्वामी के लिये प्रचार करने को कहा. कांग्रेस के सूत्रों के अनुसार मांड्या के पार्टी नेताओं ने राव और सिद्धारमैया को जद(एस) उम्मीदवार का समर्थन करने में आ रहीं दिक्कतों के बारे में बताया.

AFSPA को संशोधित करने का कांग्रेस का वादा बहुत ही खतरनाक: एस.एम. कृष्णा

इस बीच बैठक के बाद राव ने बुधवार को मीडियाकर्मियों से कहा, “मैंने और विधायक दल के नेता के साथ मिलकर मांडया के हमारे नेताओं से चर्चा की है कि कैसे और क्या करना है. मुझे भरोसा है कि चीजें सुलझ जाएंगी.”

कांग्रेस को उन लोगों से हमदर्दी जो तिरंगा जलाते हैं और भारत के टुकड़े करने के नारे लगाते हैं: PM मोदी