कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा है कि राज्यसभा में उनका कार्यकाल 2020 तक है. इसके बावजूद पार्टी चाहती है कि वह लोकसभा चुनाव लड़ें तो वह भोपाल की बजाय राजगढ़ संसदीय सीट से चुनाव लड़ना चाहेंगे. दिग्विजय ने मीडिया से कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता राजगढ़ संसदीय सीट है. हालांकि उन्होंने पार्टी हाईकमान से कह दिया है कि जहां से पार्टी चाहेगी वह वहां से चुनाव लड़ेंगे.

दरअसल, शनिवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने घोषणा कर दी कि दिग्विजय सिंह राज्य की राजधानी भोपाल से चुनाव लड़ेंगे. कमलनाथ ने कहा था कि उन्होंने दिग्विजय से कहा है कि वह भोपाल से चुनाव लड़े और वह इसको लेकर तैयार भी हैं. कमलनाथ ने कहा कि कांग्रेस हाईकमान के साथ बैठक में दिग्विजय सिंह का नाम सुझाया गया था. कमलनाथ की इस घोषणा के बाद शनिवार देर शाम पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी, जिसमें दिग्विजय सिंह को भोपाल से टिकट दिया गया है.

कमलनाथ ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है भोपाल की जनता दिग्विजय सिंह का समर्थन करेगी. वैसे राजगढ़ दिग्विजय परिवार की पारंपरिक सीट है. वह वहां से 1984 और 1991 में चुनाव जीत चुके हैं. मध्य प्रदेश में चार चरणों में चुनाव होगा. भोपाल को भाजपा का गढ़ माना जाता है. इस सीट पर लंबे समय से भागवा पार्टी का कब्जा रहा है. ऐेसे में माना जा रहा है कि भोपाल से दिग्विजय की राह आसान नहीं होगी.