नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) को चुनाव आयोग (Election Commission of India) ने बड़ा झटका दिया है. चुनाव आयोग ने विद्वेष फैलाने वाले विवादित बयानों पर दोनों के चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी है. सीएम योगी पर 72 घंटे व मायावती पर 48 घंटे की रोक लगाई गई है. चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के प्रचार के दौरान रैली में दिए गए बयानों को आचार संहिता का उलंघन माना और बड़ी कार्रवाई की है. Also Read - CM Yogi ने पूछा, कल हाथरस में जो दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई, क्या समाजवादी पार्टी का उस अपराधी से कोई संबंध नहीं है?

बता दें कि आज ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने चुनाव प्रचार के दौरान बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के कथित रूप से विद्वेष फैलाने वाले भाषणों का सोमवार को संज्ञान लिया है. और निर्वाचन आयोग (Election Commission) से पूछा था कि उसने इनके खिलाफ अभी तक क्या कार्रवाई की है. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली पीठ ने चुनाव प्रचार के दौरान जाति एवं धर्म को आधार बना कर विद्वेष फैलाने वाले वाले भाषणों निबटने के लिये आयोग के पास सीमित अधिकार होने के कथन से सहमति जताते हुये निर्वाचन आयोग के एक प्रतिनिधि को मंगलवार को तलब किया है. Also Read - Petrol-Diesel की बढ़ती कीमतों पर Mayawati- Akhilesh Yadav ने केंद्र और यूपी की योगी सरकार पर हमला बोला

जया प्रदा के खिलाफ अभद्र बयान देकर फंसे आजम खान, हुई FIR, महिला आयोग का भी नोटिस Also Read - क्या केवल पश्चिम बंगाल में ही भेजे जा रहे हैं केंद्रीय पुलिस बल? चुनाव आयोग ने बताई पूरी कहानी

पीठ ने निर्वाचन आयोग के इस कथन का उल्लेख किया कि वह जाति और धर्म के आधार पर विद्वेष फैलाने वाले भाषण के लिये नोटिस जारी कर सकता है, इसके बाद परामर्श दे सकता है ओर अंतत: ऐसे नेता के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में शिकायत दर्ज करा सकता है. पीठ ने कहा, ‘‘चुनाव आयोग ने कहा कि उनके हाथ में कुछ नहीं है. उन्होंने कहा कि वे पहले नोटिस जारी करेंगे, फिर परामर्श जारी होगा और फिर शिकायत दर्ज की जाएगी.’’ पीठ ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान इास तरह के विद्वेष फैलाने वाले भाषणों से निबटने के आयोग के अधिकार से संबंधित पहलू पर वह गौर करेगा.

‘वीरू’ ने ‘बसंती’ के लिए मांगे वोट, बोले- ‘अगर नहीं जिताया, तो गांव की टंकी पर चढ़ जाऊंगा’

इसी बीच चुनाव आयोग ने बयानों को लेकर सीएम योगी और मायावती पर चुनाव प्रचार को लेकर रोक लगा दी. 18 अप्रैल को दूसरे चरण का मतदान है. ऐसे में दोनों नेता दूसरे चरण के लिए चुनाव का प्रचार नहीं कर पाएंगे. दूसरे चरण में यूपी की 8 सीटों पर चुनाव है. आगरा, मथुरा, अलीगढ़, फतेहपुर सीकरी, नगीना, बुलंदशहर, हाथरस, अमरोहा की लोकसभा सीटों पर मतदान होगा. कल मंगलवार यानी 16 अप्रैल को योगी की नगीना और फतेहपुर सीकरी में रैली होनी थी, जो वो अब नहीं कर पाएंगे. जबकि 16 अप्रैल को ही मायावती की आगरा में अखिलेश यादव व अजित सिंह के साथ संयुक्त रैली होनी थी. चुनाव आयोग द्वारा रोक लगाए जाने से दोनों नेता अब रैली नहीं कर पायेँगे. चुनाव आयोग द्वारा लगाई गई रोक 16 अप्रैल सुबह 6 बजे से प्रभावी हो जाएगी.