नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के पिछले तीन चरणों में हुए मतदान के दौरान ग्रामीण इलाकों में जहां बड़ी तादाद में मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, वहीं शहरी वोटरों के रुझान में कमी देखी गई है. वोट देने वालों की संख्या में आ रही इस गिरावट को लेकर निर्वाचन आयोग चिंतित है. इसलिए न सिर्फ मतदाता जागरूकता अभियान जोर-शोर से चलाए जा रहे हैं, बल्कि आयोग ने अब वोट देने वालों के लिए नकद इनाम और गिफ्ट देने तक की घोषणाएं की है. अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मध्यप्रदेश में बड़ी संख्या में मतदान के लिए आयोग ने 5 हजार रुपए तक के नकद इनाम और अन्य गिफ्ट देने की योजना बनाई है.

आज से पूर्वांचल के रण में कूदेंगे पीएम मोदी, यूपी-बिहार की 50 सीटों का तय होगा भविष्य

मध्यप्रदेश में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए निर्वाचन आयोग पहली बार इस तरह की पहल कर रहा है. अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, आयोग की तरफ से यह इनाम पाने के लिए मतदाताओं को वोट डालकर सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीर शेयर करनी होगी. राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि जो लोग लोकसभा चुनाव में वोट डालने के बाद सीईओ एमपी (CEO MP) के सोशल मीडिया अकाउंट पर अपनी तस्वीर शेयर करेंगे और दिए गए वाट्सएप नंबर पर भी अपनी फोटो शेयर करेंगे, उन्हें 3 हजार रुपए से लेकर 5 हजार रुपए तक का नकद इनाम दिया जाएगा. ज्वाइंट चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर अभिजीत अग्रवाल ने अखबार को बताया, ‘निर्वाचन आयोग ने चार श्रेणियों में इनाम देने की योजना बनाई है. इसके तहत परिवार की अलग-अलग पीढ़ियों के साथ वोट डालने की तस्वीर, दिव्यांग लोगों के समूह की तस्वीर, लड़कियों और महिलाओं के समूह की तस्वीर और 100 साल के बुजुर्ग मतदाता की तस्वीर पर ये पुरस्कार दिए जाएंगे.

बसपा उम्मीदवार ने इतनी जमानत ‘राशि’ दी कि गिनने में लग गए 2 घंटे

मध्यप्रदेश निर्वाचन कार्यालय ने मतदान प्रतिशत में बढ़ोतरी की यह कवायद लोकसभा चुनाव के तीन चरणों में हुए मतदान के बाद की है. दरअसल, देश के 15 राज्यों में तीन चरणों में हुए मतदान के दौरान 67.9 प्रतिशत वोटिंग दर्ज की गई है. मध्यप्रदेश की 29 लोकसभा सीटों के लिए चार चरणों में मतदान होने हैं. इसके तहत 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई को प्रदेश के विभिन्न लोकसभा क्षेत्रों में मतदान होंगे. इस दौरान राज्य में अधिक से अधिक संख्या में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करें, इसके लिए ही निर्वाचन आयोग ने नकद इनाम देने की पहल शुरू की है. आयोग के अनुसार, मतदाताओं को नकद इनाम के अलावा टी-शर्ट, कैप और पेन-ड्राइव भी इनाम के तौर पर दिए जाएंगे. अभिजीत अग्रवाल ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि पुरस्कार राशि देने का निर्णय वोटर की संख्या और वोट देने के समय के आधार पर किया जाएगा. आयोग मतदाताओं द्वारा शेयर की गई तस्वीरों का इस्तेमाल मतदान के दिनों में लोगों को वोट देने के प्रति जागरूक करने के लिए करेगा.

क्यों मोदी के नामांकन में नीतीश, ठाकरे से लेकर बादल तक हो रहे हैं शामिल, 4 चरणों पर क्या पड़ेगा असर

प्रदेश में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए नकद इनाम देने के अलावा निर्वाचन आयोग कई और उपाय भी करने जा रहा है. अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, आयोग ने इस लोकसभा चुनाव में बड़ी संख्या में मतदान के लिए वोटरों को मतदान केंद्र तक लाने-ले जाने का भी इंतजाम किया है. आयोग के अनुसार चलने-फिरने में असमर्थ या दिव्यांग व्यक्तियों को मतदान केंद्र तक लाने के लिए निजी कैब की सेवा लेने पर विचार किया जा रहा है. आयोग के मुताबिक, कुछ निजी कैब सर्विस देने वाली एजेंसियों से इस बाबत संपर्क किया गया है, जिन्होंने जनहित में मुफ्त सेवा देने की पहल की है. इसके तहत बुजुर्ग और दिव्यागं मतदाताओं को कैब से मतदान केंद्र तक लाया जाएगा. वहीं, आयोग ने आम जनता से भी अपील की है कि वे अपने आसपास के लोगों को मतदान केंद्र तक लाने की पहल करें.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com