नई दिल्ली. देश में निष्पक्ष चुनाव कराने की दृष्टि से चुनाव आयोग लगातार कड़े फैसले ले रहा है. आयोग ने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के करीबी माने जाने वाले चार अफसरों का तबादला कर दिया है. इसमें कोलकाता के पुलिस कमिश्नर अनुज शर्मा का भी नाम है, जिन्हें सीबीआई के खिलाफ ममता के धरने में हर वक्त सीएम के साथ देखा गया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चुनाव आयोग ने अनुज शर्मा के साथ-साथ तीन और पुलिस अफसरों का तबादला किया है. ये चारों अफसरों को चुनाव संबंधित किसी तरह की जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी. आयोग ने यह जानकारी पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव मलय डे को चिट्ठी लिखकर दी है और कहा कि इसे तत्काल प्रभाव से लागू किया जाए.

ये हैं चार अधिकारी
अनुज शर्मा के साथ विधानगर के पुलिस कमिश्नर ज्ञानवंत सिंह, डायमंड हार्बर के एसपी एस. सेल्वमुरुगन और बीरभूम के एसपी श्यान सिंह का ट्रांसफर किया गया है.इसके साथ ही प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एडीजी डॉ. राजेश कुमार को कोलकाता का नया पुलिस कमिश्नर वहीं, एडीजी और आईजीपी (संचालन) नटराजन रमेश बाबू को बिधानगर का पुलिस कमिश्नर बनाया है.

ममता विकल्प तलाश रहीं
रिपोर्ट्स के मुताबिक, चुनाव आयोग के इस फैसले के बाद ममता बनर्जी सभी विकल्पों पर विचार कर रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, वह कोर्ट भी पहुंच सकती हैं. इसके पीछे तर्क दिया जा रहा है कि आंध्र प्रदेश में चुनाव आयोग के इसी तरह के फैसले को कोर्ट ने रद्द कर दिया था. ऐसे में ममता कई विकल्पों पर विचार कर रही हैं.