नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने इटावा में बीजेपी प्रत्याशी रामशंकर कठेरिया के समर्थन में जनसभा की. यहां उन्होंने सपा-बसपा गठबंधन के साथ ही अखिलेश यादव पर भी जमकर निशाना साधा. योगी ने कहा कि जो लोग कभी भीमराव आंबेडकर को गाली देते थे, मायावती उनके साथ आ गई हैं. यही मायावती कहती थीं कि अगर संविधान नहीं होता तो अखिलेश यादव किसी जमींदार के घर भैंस चरा रहा होता. बता दें कि इटावा जिला मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव का गृहनगर है.

इटावा में रैली करते हुए सीएम योगी ने कहा कि लोग सपा की गुंडई से तंग आ गए थे. यहां के नेताओं की महिलाएं भी कहती थीं कि सपा का गुंडों वाला झंडा लेकर घर में कैसे आ जाते हो, इसे फेंक दो. महिलाओं ने झंडा फेंकने को कहा. महिलाओं ने कहा कि मोदी देश को सुरक्षा दे रहे हैं और योगी प्रदेश को सुरक्षा दे रहे हैं, इसलिए उनका झंडा लगाइए. सीएम योगी ने कहा कि देश से नक्सलवाद और आतंकवाद न्यूनतम स्तर पर है. हम ये सब ख़त्म कर रहे हैं, इसलिए हमें वोट भी चाहिए होगा.

सीएम योगी ने कहा कि अब तक यूपी की 80 में से 16 सीटों पर चुनाव हुआ है. गठबंधन जीरो है और कांग्रेस भी जीरो है. इन सभी 16 सीटों पर बीजेपी जीतेगी. ये गांव गली का चुनाव नहीं है, ये देश का चुनाव है. भविष्य तक करने को आपको वोट करना है. बता दें कि बीजेपी ने आगरा के सांसद रहे रामशंकर कठेरिया को इटावा का प्रत्याशी बनाया है. वहीं, सपा बसपा गठबंधन ने कमलेश कठेरिया को टिकट दिया है. कांग्रेस की ओर से इटावा सीट से सांसद अशोक दोहरे को टिकट दिया है. अशोक दोहरे बीजेपी में थे. 2014 में उन्हें बीजेपी में रहते हुए इटावा से जीत मिली थी, लेकिन इस बार बीजेपी द्वारा टिकट काटे जाने पर वह कांग्रेस में शामिल हो गए. कांग्रेस ने अशोक दोहरे को टिकट दिया है.

चुनाव से पहले बड़ा नक्सली हमला: बीजेपी MLA, 3 जवानों की गई जान, सरकार ने बुलाई हाईलेवल मीटिंग