नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव में काउंटिंग से पहले ईवीएम एवं वीवीपीएटी की पर्चियों को मिलाने की विपक्षी दलों की मांग को चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया है. मंगलवार को 22 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से मांग की थी कि काउंटिंग शुरू होने से पहले निर्धारित संख्या में ईवीएम और वीवीपीएटी की पर्चियों को मिलाने की मांग की थी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आयोग ने विपक्ष की इस मांग पर बुधवार को विचार करने के बाद खारिज कर दिया. ईवीएम एवं वीवीपीएटी के मुद्दे पर कांग्रेस, सपा, बसपा, तृणमूल कांग्रेस सहित 22 प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं ने मंगलवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की थी.

विपक्षी दलों ने यह भी कहा था कि यदि किसी एक मतदान केंद्र पर भी वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान सही नहीं पाया जाता तो संबंधित विधानसभा क्षेत्र में सभी वीवीपीएटी पर्चियों की गिनती की जाए. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने संवाददाताओं कहा था कि हमनें मांग की है कि वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान पहले किया जाए और फिर मतगणना की जाए. यह हमारी सबसे बड़ी मांग हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘अगर पांच मतदान केंद्रों के वीवीपीएटी पर्चियों की गिनती में गड़बड़ी पाई जाए तो पूरे विधानसभा क्षेत्रों में पर्चियों में गिनती की जाए. यह हमारी दूसरी मांग है.’’ विपक्षी नेताओं ने कई स्थानों पर स्ट्रांगरूम से ईवीएम के कथित स्थानांतरण से जुड़ी शिकायतों पर कार्रवाई की मांग की.