नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के नतीजों के आने से पहले रविवार को आए Exit Poll के शुरुआती रुझानों में भारतीय जनता पार्टी की एकतरफा जीत तय नजर आ रही है. देश के कई सर्वेक्षण एजेंसियों के Exit Poll अनुमानों के मुताबिक भाजपा ने जहां देशस्तर पर विपक्षी पार्टियों को पटखनी दी है, वहीं मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में भी पार्टी ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है. इन तीनों ही राज्यों में पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने भाजपा को हराया था. इसलिए सियासी जानकार अनुमान लगा रहे थे कि तीनों राज्यों में कांग्रेस अच्छा प्रदर्शन करेगी. मगर Exit Poll के अनुमान इससे उलट और भाजपा के पक्ष में जाते दिख रहे हैं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com

आज तक-एक्सिस के Exit Poll के मुताबिक मध्यप्रदेश में भाजपा को कुल 29 सीटों में से 26 से 28 सीटें मिलती नजर आ रही हैं. वहीं छत्तीसगढ़ में भी भाजपा एकतरफा जीत दर्ज करती दिख रही है. सर्वे एजेंसियों के मुताबिक राज्य में भाजपा को कुल 11 सीटों में से 7 से 8 सीटों पर जीत मिल सकती है. वहीं राजस्थान में भी भाजपा को काफी सीटों पर बढ़त मिलती नजर आ रही है.

एग्जिट पोल के नतीजे आने शुरू, केंद्र में भाजपा गठबंधन को बहुमत के आसार

एग्जिट पोल के नतीजे आने शुरू, केंद्र में भाजपा गठबंधन को बहुमत के आसार

इन तीनों राज्यों में जहां भाजपा वर्ष 2014 का इतिहास दोहराती नजर आ रही है, वहीं उत्तर प्रदेश में पार्टी को बड़ा नुकसान होता दिख रहा है. एबीपी-नील्सन सर्वे के अनुसार भाजपा को यूपी में हर तरफ सीटों का नुकसान होता दिख रहा है. पश्चिमी यूपी में जहां महागठबंधन 90 फीसदी से ज्यादा सीटों पर अपनी बढ़त बनाता नजर आ रहा है, वहीं पूर्वी यूपी में भी भाजपा सिर्फ 8 सीटों पर सिमटती नजर आ रही है. पूर्वांचल के इलाके में महागठबंधन को कुल 26 सीटों में से 18 पर जीत मिलती दिख रही है.

बहरहाल, विभिन्न सर्वेक्षण एजेंसियों के अनुसार, राज्यों में भले ही विपक्षी पार्टियां भाजपा के ऊपर बढ़त बनाती नजर आ रही हों, लेकिन केंद्र में राजग की सरकार बनने की संभावना नजर आ रही है. TIMES NOW-VMR के Exit Poll के मुताबिक राजग को कुल 542 में से 306 सीटों पर जीत मिलने की उम्मीद है. वहीं रिपब्लिक भारत और जन की बात के Exit Poll में भी एनडीए को पूर्ण बहुमत मिलने की उम्मीद है. इनके अनुसार एनडीए को लोकसभा की कुल सीटों में से 305 सीटें हासिल हो सकती हैं. वहीं कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए को महज 124 सीटों से ही संतोष करना पड़ सकता है.