नई दिल्ली. 84 दिन तक चले लोकसभा चुनाव के सात चरणों के मतदान के बाद रविवार को Exit Poll के अनुमान आने शुरू हो गए हैं. शुरुआती रुझानों के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी एक बार फिर पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करती नजर आ रही है. कई राज्यों में जहां भाजपा 2014 के चुनाव परिणामों को दोहराती दिख रही है, वहीं कुछ राज्य ऐसे भी हैं जहां भाजपा को कई सीटों पर नुकसान होता नजर आ रहा है. गुजरात और दिल्ली में भाजपा पांच साल पहले वाले अपने प्रदर्शन के साथ सीटें जीतती नजर आ रही है. वहीं, उत्तर प्रदेश, जहां 2014 में पार्टी ने 73 लोकसभा सीटें जीती थीं, Exit Poll के अनुमानों के मुताबिक पार्टी को राज्य में तगड़ा नुकसान होता दिख रहा है. Also Read - UP Vidhan Parishad Election: यूपी विधान परिषद की 11 सीटों के लिए हुए चुनाव में 55.47% मतदान

Also Read - उर्मिला मांतोंडकर शिवसेना में हुईं शामिल, कांग्रेस से लड़ चुकी हैं लोकसभा चुनाव

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com Also Read - किसानों से बातचीत से पहले मोदी सरकार के दिग्गज मंत्रियों की बैठक, इस रणनीति पर हो रही चर्चा!

Exit Poll के आंकड़ों की मानें तो गुजरात की 26 लोकसभा सीटों में से भाजपा 23 से 24 सीटें जीतने का अनुमान लगाया जा रहा है. AAJTAK- Axis के सर्वेक्षण के मुताबिक गुजरात में भाजपा क्लीन स्वीप करती दिख रही है. यानी पार्टी को सभी 26 में से 26 सीटों पर जीत मिल सकती है. वहीं, दिल्ली की 7 लोकसभा सीटों के बारे में भी विभिन्न सर्वेक्षणों का अनुमान ऐसा ही है. दिल्ली की सभी सातों सीटों पर भाजपा को एकतरफा जीत मिलती दिख रही है.

एग्जिट पोल के नतीजे आने शुरू, केंद्र में भाजपा गठबंधन को बहुमत के आसार

गुजराता और दिल्ली से उलट, उत्तर प्रदेश में भाजपा को बड़ा नुकसान होता दिख रहा है. सपा-बसपा-रालोद के महागठबंधन को यूपी में सभी सीटों पर फायदा मिलता नजर आ रहा है. महागठबंधन के हिस्से में पश्चिमी और पूर्वी यूपी की कई सीटें जाती दिख रही हैं. वहीं भाजपा को न सिर्फ पश्चिमी, बल्कि पूर्वांचल में भी झटका लगने वाला है. यूपी के पूर्वांचल की कुल 26 सीटों के पूर्वानुमान में भाजपा को जहां सिर्फ 8 सीटों पर जीत मिलती दिख रही है, वहीं महागठबंधन इस इलाके में 18 सीटों पर बढ़त हासिल करता नजर आ रहा है.

मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी भाजपा ने कांग्रेस को पछाड़ा, विधानसभा चुनाव से उलट अनुमान

उधर, पश्चिमी यूपी में भी भाजपा को निराशा ही हाथ लगने वाली है. क्योंकि यहां की भी सभी सीटों पर महागठबंधन अपनी बढ़त बनाता दिख रहा है. इन सबके बीच कांग्रेस पार्टी चुनावी लड़ाई से बाहर नजर आ रही है. ABP- Nielsen के सर्वेक्षण की मानें तो पूर्वांचल में कांग्रेस का खाता भी खुलता नहीं दिख रहा है. यानी 26 में से किसी भी सीट पर कांग्रेस पार्टी चुनावी लड़ाई में नजर नहीं आ रही है.