नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के आखिरी चरण का मतदान खत्म होने के बाद एग्जिट पोल आने शुरू हो गए हैं. एग्जिट पोल के जरिए हम आगामी चुनाव परिणाम की तस्वीर देख सकते हैं. एग्जिट पोल यह बता देता है कि आने वाले समय में सत्ता की कुर्सी किसके पाले में जाने वाली है. एक बात गौर करने वाली यह है कि जरूरी नहीं कि सभी एग्जिट पोल सही साबित हों. ऐसे में आज हम आपको बताएंगे कि एग्जिट पोल होते क्या हैं? इसके अलावा एग्जिट पोल, ओपिनियन और पोस्ट पोल में क्या अंतर है, इस बारे में भी हम बताएंगे. Also Read - Bihar Exit Poll: तेजस्वी यादव बिहार सीएम के लिए सबसे लोकप्रिय विकल्प, महागठबंधन को प्रचंड जीत के आसार

Also Read - Bihar Polls 2020: बिहार में पहले चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन, कई दिग्गजों की रैलियां- मतदान 28 को...

एग्जिट पोल के नतीजे आने शुरू, केंद्र में भाजपा गठबंधन को बहुमत के आसार Also Read - Bihar Opinion Poll: बिहार में किसकी बनेगी सरकार? जानिये क्या कहता है ओपिनियन पोल

एग्जिट पोल (Exit Polls)

लंबे सर्वे अभियान के बाद एग्जिट पोल के आंकड़े सामने आते हैं. सर्वे के माध्यम से एग्जिट पोल की घोषणा की जाती है और अनुमान लगाया जाता है कि चुनाव परिणाम में कौन सा दल सबसे ज्यादा वोट पा रह है. चुनाव परिणाम के बाद केंद्र में अपनी सरकार बना सकता है. बता दें कि वोटिंग से पहले एग्जिट पोल के नतीजे दिखाना अपराध होता है. कोई भी चुनाव हो, मतदान की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही एग्जिट पोल के नतीजे दिखा सकता है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो 15 फरवरी 1967 में पहली बार नीदरलैंड में एग्जिट पोल चलन में आया था.

VIDEO: तेजप्रताप के सुरक्षाकर्मियों ने मीडियाकर्मी को पीटा, लालू के बेटे बोले- मुझे मारने की साजिश थी

ओपिनियन पोल (Opinion Poll)

एग्जिट पोल हो या पोस्ट पोल, सभी ओपिनियन पोल का ही हिस्सा होते हैं. यह कहना भी गलत नहीं होगा कि प्री पोल या सर्वे ही ओपनियन पोल होते हैं. आमतौर पर ओपिनियन पोल की तैयारी चुनाव की घोषणा के बाद से ही शुरू हो जाती है. चुनाव शुरू होने से पहले अलग-अलग संस्थानों द्वारा बड़े स्तर पर सर्वे कराया जाता है. इस सर्वे में लोगों की राय जानने की कोशिश की जाती है कि उनके मन में क्या चल रहा है. मीडिया संस्थान चुनाव से पहले किए गए विकास कार्यों, लापरवाहियों, वादों और अन्य जनता से जुड़े मुद्दों पर जनता की राय जानते हैं और उनके पसंदीदा नेता और पार्टी के बारे में जानने का प्रयास करते हैं.

पश्चिम बंगाल: वोटिंग के बीच फिर बवाल, BJP प्रत्याशी की कार तोड़ी, TMC कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप

पोस्ट पोल (Post Poll)

एग्जिट पोल के नतीजे मतदान खत्म होते ही घोषित किए जाते हैं. लेकिन पोस्ट पोल की बात करें तो यह एग्जिट पोल से बिल्कुल अलग होता है. पोस्ट पोल मतदान के एक दिन या दो दिन बाद घोषित किया जाता है. पोस्ट पोल में मतदाताओं से बात की जाती है और उनसे यह जानने की कोशिश की जाती है कि उन्होंने किस पार्टी पर भरोसा जताया है. इस आधार पर पोस्ट पोल के नतीजों की घोषणा की जाती है. पोस्ट पोल के बारे में कहा जाता है कि इसके परिणाम एग्जिट पोल से ज्यादा सटीक होते हैं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com