नई दिल्ली: कभी सत्‍ता की बुलंदियों पर रहे 92 साल के पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखराम ने एक बार फिर घर वापसी की है. वे सोमवार को कांग्रेस पार्टी में फिर से शामिल हो गए. पूर्व केंद्रीय संचार मंत्री सुखराम सोमवार को अपने पौत्र के साथ पार्टी की सदस्‍यता दिल्‍ली में कांग्रेस कार्यालय में ली. उन्होंने और उनके पौत्र आश्रय शर्मा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और इसके बाद पार्टी में शामिल हुए. देश के सबसे बड़े संचार घोटाले के उन पर आरोप लगे थे. सुखराम पहले कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में गिने जाते थे, हालांकि कुछ साल पहले वह भाजपा में चले गए थे. उनके पुत्र अनिल शर्मा अब भी हिमाचल प्रदेश सरकार में मंत्री हैं. ऐसी खबरें हैं कि कांग्रेस उनके पौत्र आश्रय शर्मा को हिमाचल की मंडी लोकसभा सीट से टिकट दे सकती है, हालांकि कांग्रेस की ओर से अब तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.

पैरालंपिक खेलों में मेडल जीतने वालीं दीपा मालिक BJP में शामिल, इनेलो MLA भी भाजपा से जुड़े

बता दें कि उन्‍हें निचली कोर्ट ने घोटाले में 5 साल की सजा सुनाई थी. इस सजा के खिलाफ मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है. पिछले साल सुखराम ने कोर्ट से अपील की थी कि वे इस मामले में निर्दोष हैं और इस पर जल्‍द फैसला हो. सुखराम ने सुप्रीम कोर्ट की बेंच से कहा था कि मेरी उम्र 92 साल की है. मैं इस आरोप के साथ मरना नहीं चाहता हूं.

ये है राहुल गांधी की न्यूनतम आय गारंटी स्कीम, इस तरह आपको मिलेंगे 12 हजार प्रतिमाह

इस मौके पर सुखराम ने कहा, ”मैं राहुल जी से मिला तो उनकी एक बात से प्रभावित हुआ. उन्होंने कहा कि आपसे सिर्फ राजनीतिक नहीं, बल्कि पारिवारिक रिश्ता भी है. इसके बाद मेरी घरवापसी हुई. मैं अपने घर वापस आया हूं.” उन्होंने कहा, ”मैं जीवन के ऐसे मोड़ पर हूं कि किसी से द्वेश नहीं रखना चाहता हूं. पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से कुछ दूरियां हो गई थीं, जिसका लोगों ने फायदा उठाया. लेकिन आज मैं फिर वापस आया हूं. अपने पौत्र को कांग्रेस के सुपुर्द कर रहा हूं.

केंद्र में मंत्री रहे इस नेता ने कांग्रेस से तोड़े रिश्‍ते, दादा रह चुके हैं महाराष्‍ट्र के सीएम

लालकृष्ण आडवाणी को भाजपा से टिकट नहीं दिए जाने के सवाल पर सुखराम ने कहा कि यह बहुत बड़ी बात है कि कांग्रेस में बुजुर्गों का सम्मान है और युवाओं से भी काम लिया जाता है. उन्हें दुख है कि एक नेता जो भाजपा को इतना आगे ले गए उनको टिकट से वंचित किया गया है.

नितिन गडकरी ने नागुपर लोकसभा सीट से नामांकन पत्र दाखिल किया, बड़े जीत का दावा

सुखराम का पार्टी में स्वागत करते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मीडियाकर्मियों से कहा कि कांग्रेस देश के 20 प्रतिशत गरीबों के लिए न्याय करेगी. हम सबके लिए हर्ष की बात यह है कि उत्तर भारत के कद्दावर के नेता पंडित सुखराम जी और उनके पौत्र कांग्रेस में फिर से शामिल हुए हैं. हिमाचल प्रदेश खासतौर पर मंडी के लिए सुखराम जी विकास पुरुष हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी को विश्वास है कि सुखराम और आश्रय शर्मा के कांग्रेस में आने से पार्टी को हिमाचल प्रदेश और उत्तर भारत में बल मिलने वाला है.

नितिन गडकरी ने नागुपर लोकसभा सीट से नामांकन पत्र दाखिल किया, बड़े जीत का दावा

सुरजेवाला ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि एक तरफ वे ताकतें सत्तासीन हैं, जिन्होंने अपनी पार्टी में पिता समान नेता लालकृष्ण आडवाणी को दरकिनार कर दिया और राजनीति से जबरन सेवानिवृत्त कर दिया. दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी है, जो पंडित सुखराम जैसे बुजुर्गों का अशीर्वाद लेकर देश को नई दिशा देना चाहती है.

राशिद अल्वी ने लोकसभा चुनाव लड़ने से किया इनकार, कांग्रेस ने दूसरा उम्‍मीदवार घोषित किया