नई दिल्लीः पूर्वी दिल्ली से भाजपा उम्मीदवार गौतम गंभीर ने आप की प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार आतिशी के खिलाफ ‘आपत्तिजनक’ पर्चे कथित रूप से बांटे जाने में संलिप्तता के आरोप लगाए जाने के बाद बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और आतिशी को एक नोटिस भेजा और उनसे माफी मांगने को कहा. नोटिस में तीनों से कहा गया है कि वे गंभीर के खिलाफ अपने आरोप वापस लें और बिना शर्त माफी मांगें. इससे पहले गंभीर ने आरोप पर पलटवार किया और कहा कि उनके खिलाफ यदि आरोप सही साबित हुए तो वह लोकसभा चुनाव से हट जाएंगे.

उन्होंने आप प्रमुख केजरीवाल और पूर्वी दिल्ली से पार्टी की उम्मीदवार आतिशी को संबोधित एक ट्वीट में लिखा, ‘‘मैं घोषणा करता हूं कि यदि यह साबित हो जाता है कि मैंने वह किया है, मैं तुरंत अपनी उम्मीदवारी वापस ले लूंगा. यदि नहीं तो क्या आप राजनीतिक छोड़ेंगे?’’

आतिशी अपने खिलाफ ‘आपत्तिजनक और अपमानजनक’ टिप्पणियों वाला एक पर्चा पढ़ते हुए रो पड़ीं. आतिशी ने दावा किया कि भाजपा के उनके प्रतिद्वंद्वी ने निर्वाचन क्षेत्र में ऐसे पर्चे बंटवाये हैं. गंभीर ने श्रृंखलाबद्ध ट्वीट में केजरीवाल को आड़े हाथ लिया और कहा कि उन्हें ‘शर्म’ है कि वह दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं.

शुक्रवार शाम में चुनाव प्रचार समाप्त होने से कुछ घंटे पहले राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में राजनीतिक माहौल भाजपा और आप के आरोप प्रत्यारोप में लिप्त होने से खराब हो गया. गंभीर ने ट्वीट किया, ‘‘अरविंद केजरीवाल मैं किसी महिला और वह भी अपनी सहयोगी का अपमान करने के आपके कृत्य से घृणा करता हूं. वह भी चुनाव जीतने के लिए? श्रीमान मुख्यमंत्री आप गंदे हैं और आपके दिमाग को साफ करने के लिए किसी को आपकी झाड़ू की जरूरत पड़ेगी.’’

उन्होंने एक बयान में कहा कि उनके परिवार में पांच महिलाएं हैं और वे ऐसी ‘ओछी’ राजनीति में लिप्त नहीं होंगे. उन्होंने कहा, ‘मैं आप नेताओं को ऐसे ही नहीं छोड़ूगां. मैं उनके खिलाफ मानहानि का मामला दायर करूंगा.’ पूर्वी दिल्ली से आप उम्मीदवार आतिशी ने दावा किया कि भाजपा ने निर्वाचन क्षेत्र के आवासीय परिसर में ऐसे पर्चे बंटवाये हैं जिसमें उनके और उनके परिवार के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी हैं.