पणजी: गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने बुधवार को विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है. गोवा की 36 सीटों वाली विधानसभा में 20 वोट बीजेपी नीत गठबंधन सरकार के पक्ष में पड़े, जबकि कांग्रेस विश्‍वास मत के खिलाफ सिर्फ 15 वोट ही जुटा सकी. गोवा की बीजेपी सरकार पर आशंकाओं के तमाम बादल बुधवार को तब छंट गए जब बीजेपी के मुख्‍यमंत्री प्रमोद सावंत के पक्ष में 20 मत पड़े, जबकि विरोध में 15 मत पड़े. बीजेपी सरकार के पक्ष में मिले मत कांग्रेस के उस दावे पर भारी पड़ गए, जिसमें पार्टी के नेताओं ने राज्‍यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा किया था. इस वक्‍त लोकसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और यदि बीजेपी गोवा में अपना बहुमत साबित नहीं कर पाती तो उसका असर आम चुनाव पर भी पड़ता, वहीं गोवा में अपनी पार्टी की सरकार का मंसूबा संजोए कांग्रेस एक बार फिर से बैकफुट पर आ गई. कांग्रेस एक बार फिर अपने पक्ष में विधायकों का बहुमत जुटाने में नाकामयाब रही.

पीएम मोदी ने कहा- ‘Family First’ की बजाए ‘India First’ की भावना से काम करती है उनकी सरकार

बीजेपी की सरकार के पक्ष में 11 पार्टी के विधायकों के अलावा 3 महाराष्‍ट्रवादी गोमांतक पार्टी, 3 गोवा फारवर्ड पार्टी और तीन स्‍वतंत्र विधायकों ने अपना मतदान किया, जबकि विरोध में कांग्रेस 14 और एनसीपी का एक मत पड़ा. बता दें कि गोवा की 36 सीटों वाली विधानसभा में बहुमत सिद्ध करने के लिए किसी भी पार्टी को 19 विधायकों का समर्थन जरूरी था.

गोवा विधानसभा में 40 सदस्य हैं
गोवा विधानसभा में 40 सदस्य हैं लेकिन दो सदस्यों के निधन और दो के इस्तीफे के कारण फिलहाल इसके सदस्यों की संख्या 36 है. तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को निधन होने के बाद तटीय राज्य में नेतृत्व में पर्रिवतन करना जरूरी हो गया था. शक्ति परीक्षण जीतने के बाद सावंत ने पर्रिकर द्वारा पहले दिए गए संदेश को दोहराते हुए सदन के सदस्यों से सकारात्मक बने रहने की अपील की. राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने सोमवार देर रात सावंत को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी और बुधवार को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया था. सावंत पहले विधानसभा अध्यक्ष थे.

भाजपा के 11 विधायकों के अलावा गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) एवं महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के तीन -तीन तथा तीन निर्दलीय विधायकों ने सावंत का समर्थन किया. कांग्रेस के सभी 14 विधायकों और राकांपा के एक विधायक ने प्रस्ताव का विरोध किया.

विधायकों से अपील- विकास कार्यों को पहुंचाने मिलकर काम करें
सत्र की शुरुआत में पर्रिकर, पूर्व उपमुख्यमंत्री फ्रांसिस डीसूज़ा और पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष विष्णु वाघ के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए भाजपा विधायक राजेश पटनाकर द्वारा लाए गए शोक प्रस्ताव पर चर्चा हुई. विश्वास मत जीतने के बाद सावंत ने सभी विधायकों से अपील की कि वे राज्य के हर कोने में विकास कार्यों को पहुंचाने के लिए उनके साथ मिलकर काम करें.

पर्रिकर द्वारा सकारात्मक रहने का संदेश अपने दिमाग में रखें
उन्होंने कहा, मैं सबसे अनुरोध करूगा कि वह पर्रिकर द्वारा सकारात्मक रहने का संदेश अपने दिमाग में रखें. हम सबको सकारात्मक रहना चाहिए और राज्य के विकास के लिए काम करना चाहिए. इस साल के शुरू में, यहां मंडोवी नदी पर बने तीसरे पुल का उद्घाटन करने के बाद पर्रिकर ने जनसभा को संबोधित करते हुए लोगों से सकारात्मक रहने को कहा था. पिछले साल से बीमार चल रहे भाजपा विधायक और पूर्व मंत्री पांडुरंग मडकाईकर जून 2018 के बाद पहली बार सदन में नजर आए. उन्हें व्हीलचेयर पर लाया गया था.

पर्रिकर की ‘सकारात्मक सोच’ को आगे ले जाएगी
विश्वास मत हासिल करने के बाद विधानसभा को संबोधित करते हुए सावंत ने कहा कि उनकी सरकार उनके पूर्ववर्ती मनोहर पर्रिकर की ‘सकारात्मक सोच’ को आगे ले जाएगी. गोवा के नए सीएम सावंत ने कहा, “निधन से पहले मनोहर पर्रिकर ने सकारात्मक होने का संदेश दिया. हम अगर इस संदेश के साथ आगे बढ़ते हैं तो हम गोवा को अच्छा भविष्य दे सकते हैं.”

मुझे प्रत्येक गोवावासी की मदद चाहिए
45 साल के सावंत ने यह भी कहा कि उनकी सरकार का दर्शन अंत्योदय के सिद्धांत पर आधारित है, जो समाज के निचले स्तर पर मौजूद लोगों को मुख्यधारा में शामिल करना चाहता है. सावंत ने कहा, “और इसके लिए काम करने की जिम्मेदारी सिर्फ मुख्यमंत्री या विधायकों की नहीं है, बल्कि समाज के प्रत्येक सदस्य की है. इसके लिए मुझे प्रत्येक गोवावासी की मदद चाहिए.”

मायावती नहीं लड़ेंगी लोकसभा चुनाव

गोवा के नवनियुक्त मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत बुधवार को 36 सदस्यों वाली विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी की अगुआई वाली गठबंधन सरकार का बहुमत सिद्ध करेंगे. सावंत ने मंगलवार को संवाददाताओं को बताया था कि वे शक्ति परीक्षण जीतने के लिए पूरी तरह आश्वस्त हैं, वहीं कांग्रेस ने विधानसभा के महत्वपूर्ण एकदिवसीय सत्र के लिए अपनी योजना बताने से इंकार कर दिया है. बता दें कि मंगलवार को ही सावंत ने कहा था, “मुझे विश्वास है कि हम शक्ति परीक्षण में सफल होंगे.”

पीएम मोदी को हटाने वाला भाजपा के भीतर कोई ‘220 क्लब’ नहीं: नितिन गडकरी

बुधवार सुबह 11.30 बजे शुरू हुए सत्र का एक मात्रा एजेंडा विधानसभा के कार्यकारी अध्यक्ष और भाजपा विधायक माइकल लोबो की देखरेख में विश्वास मत सिद्ध करना था. भाजपा नीत गठबंधन में भाजपा के 12 विधायक, गोवा फॉरवार्ड, और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के तीन-तीन विधायक और दो निर्दलीय विधायक हैं.

नॉर्थ-ईस्ट में भाजपा को झटका, अरुणाचल में 2 मंत्री-12 विधायकों का इस्तीफा, त्रिपुरा में 3 ने छोड़ी पार्टी

वहीं 36 सीटों वाली गोवा विधानसभा में कांग्रेस के 14 विधायक हैं. एक निर्दलीय विधायक प्रसाद गांवकर को सोमवार को भाजपा और कांग्रेस दोनों कैंपों का माना जा रहा था और उन्होंने स्पष्ट नहीं किया था कि वे किसका समर्थन करेंगे, लेकिन बाद में उनका भी मत बीजेपी की सरकार के पक्ष में पड़ा.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के एक मात्र विधायक चर्चिल अलेमाओ ने 2017 में भाजपा-नीत गठबंधन के पक्ष में अपना मत दिया था, लेकिन वे सोमवार को कांग्रेस पार्टी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में शामिल हुए थे. इसके बाद उन्‍होंने बुधवार को कांग्रेस के साथ सरकार के विश्‍वास मत के खिलाफ वोट किया.