बेंगलुरू: कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने लोकसभा चुनाव में भाजपा नेतृत्व वाली राजग सरकार की जीत का अनुमान जाहिर करने वाले एग्जिट पोल के परिणामों की निंदा करते हुए सोमवार को कहा कि इन अनुमानों को देश में मोदी लहर का एक झूठा माहौल बनाने के लिए किया जा रहा है.

 

कुमारस्वामी ने कई सारे ट्वीट्स में कहा कि कृत्रिम तरीके से तैयार की गई मोदी लहर का इस्तेमाल भाजपा 23 मई के परिणाम के बाद किसी कमी को पूरा करने के लिए पहले ही क्षेत्रीय पार्टियों को लुभाने के लिए कर रही है. कुमारस्वामी ने कहा कि एग्जिट पोल एक खास नेता और उसकी पार्टी के पक्ष में एक लहर का झूठा वातावरण तैयार करने का एक प्रयास था. उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल को अनावश्यक अधिक महत्व नहीं दिया जाना चाहिए, जो मात्र अस्थायी आंकड़े पेश करता है.

एग्जिट पोल के नतीजों से सहमी मायावती, 23 तक लखनऊ में ही रहेंगी

ईवीएम की विश्वसनीयता पर उठाए सवाल
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) की विश्वसनीयता को लेकर विपक्षी दलों की चिंता को साझा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष ने फ्रॉड की संभावना से भरी त्रुटिपूर्ण मशीनों से बचने के लिए पुराने मत-पत्र की तरफ लौटने के लिए सर्वोच्च न्यायालय तक का दरवाजा खटखटाया. उल्लेखनीय है कि अधिकांश एग्जिट पोल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को राज्य की 28 सीटों में से 18-23 सीटें दी गई हैं. राज्य में चुनाव पूर्व सीट बंटवारा समझौते के तहत कांग्रेस ने 21 सीटों पर और जद (एस) ने सात सीटों पर चुनाव लड़ा है.

2014 के आम चुनाव में भाजपा ने जीती थी 17 सीटें
भाजपा ने 27 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे, और एक सीट पर उसने बहुभाषी फिल्म अभिनेत्री सुमालता अंबरीश को समर्थ दिया था, जो मांड्या सीट से निर्दलीय उम्मीदवार थीं. उनके खिलाफ जद (एस) के अध्यक्ष एच.डी. देवेगौड़ा के पोते और कुमारस्वामी के पुत्र निखिल गौड़ा मैदान में थे. 2014 के आम चुनाव में भाजपा ने राज्य में 17 सीटें जीती थी, जबकि कांग्रेस ने नौ और जद (एस) ने दो सीटों पर जीत दर्ज कराई थी.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com