बीजिंग: अक्‍सर पड़ोसी देशों पर गुर्राने वाला चीन भी भारत के सामरिक दृष्‍ट‍ि से मजबूत होते देख अब शांति का संदेश दे रहा है. दरअसल, बुधवार को भारत ने एंटी सैटेलाइट मिसाइल से उपग्रह को मारकर बड़ी सुरक्षा उपलब्‍धि हासिल की है. भारत द्वारा उपग्रह भेदी मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद चीन की यह प्रतिक्रिया आई है. चीन ने उम्मीद जताई कि विश्व के सभी देश अंतरिक्ष में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के लिए वास्तविक कार्य कर सकते हैं. Also Read - UNGC हिंदूओं, सिखों, बौद्धों के खिलाफ हिंसा पर आवाज उठाने में नाकाम: भारत

इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल वु छियान ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”हमने संबद्ध खबरें पढ़ी हैं. उन्होंने भारत का जिक्र किए बगैर कहा, ”हमें उम्मीद है कि सभी देश अंतरिक्ष में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के लिए वास्तविक कार्य करेंगे.” वहीं, चीनी विदेश मंत्रालय ने एक सवाल के लिखित जवाब में कहा, हमने खबरें पढ़ी हैं और आशा है कि हर देश अंतरिक्ष में शांति एवं स्थिरता कायम रखेगा. Also Read - अंतरराष्ट्रीय डेब्यू के बाद पहली बार बिना वनडे शतक के खत्म होगा विराट कोहली का साल

बता दें कि बुधवार को दुश्मन के सक्रिय उपग्रह को मार गिराने वाले उपग्रह भेदी मिसाइल (एंटी सैटेलाइट मिसाइल) का सफल परीक्षण कर भारत यह रणनीतिक क्षमता हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है. अब तक यह क्षमता अमेरिका, रूस और चीन के पास ही थी. Also Read - China-India Tension: चीन बनाएगा ब्रह्मपुत्र नदी पर बांध, भारत भी बांध बनाकर देगा करारा जवाब

चीन ने इसी तरह का एक परीक्षण जनवरी 2007 में किया था. उसने एक निष्क्रिय मौसम उपग्रह को नष्ट किया था. बता दें कि है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली में कहा कि यह कार्य किसी देश के खिलाफ लक्षित नहीं है. भारत ने उपग्रह भेदी मिसाइल का परीक्षण कर किसी अंतरराष्ट्रीय कानून या संधि का उल्लंघन नहीं किया है. साथ ही, नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अंतरिक्ष में हथियारों की होड़ में शामिल होने का भारत का कोई मकसद नहीं है.