बीजिंग: अक्‍सर पड़ोसी देशों पर गुर्राने वाला चीन भी भारत के सामरिक दृष्‍ट‍ि से मजबूत होते देख अब शांति का संदेश दे रहा है. दरअसल, बुधवार को भारत ने एंटी सैटेलाइट मिसाइल से उपग्रह को मारकर बड़ी सुरक्षा उपलब्‍धि हासिल की है. भारत द्वारा उपग्रह भेदी मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद चीन की यह प्रतिक्रिया आई है. चीन ने उम्मीद जताई कि विश्व के सभी देश अंतरिक्ष में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के लिए वास्तविक कार्य कर सकते हैं. Also Read - कश्मीर में भारत 22 अक्टूबर को मनाएगा 'काला दिवस', 1947 में पाकिस्तान ने घाटी में कराई थी हिंसा

इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल वु छियान ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”हमने संबद्ध खबरें पढ़ी हैं. उन्होंने भारत का जिक्र किए बगैर कहा, ”हमें उम्मीद है कि सभी देश अंतरिक्ष में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के लिए वास्तविक कार्य करेंगे.” वहीं, चीनी विदेश मंत्रालय ने एक सवाल के लिखित जवाब में कहा, हमने खबरें पढ़ी हैं और आशा है कि हर देश अंतरिक्ष में शांति एवं स्थिरता कायम रखेगा. Also Read - कॉल सेंटर घोटालेबाज: कनाडा में छात्रों को ठग रहा था भारतीय, कई और इसमें शामिल

बता दें कि बुधवार को दुश्मन के सक्रिय उपग्रह को मार गिराने वाले उपग्रह भेदी मिसाइल (एंटी सैटेलाइट मिसाइल) का सफल परीक्षण कर भारत यह रणनीतिक क्षमता हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है. अब तक यह क्षमता अमेरिका, रूस और चीन के पास ही थी. Also Read - चीन को जवाब! मालाबार युद्धाभ्यास में अमेरिका और जापान के अलावा अब ऑस्ट्रेलिया भी होगा शामिल

चीन ने इसी तरह का एक परीक्षण जनवरी 2007 में किया था. उसने एक निष्क्रिय मौसम उपग्रह को नष्ट किया था. बता दें कि है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली में कहा कि यह कार्य किसी देश के खिलाफ लक्षित नहीं है. भारत ने उपग्रह भेदी मिसाइल का परीक्षण कर किसी अंतरराष्ट्रीय कानून या संधि का उल्लंघन नहीं किया है. साथ ही, नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अंतरिक्ष में हथियारों की होड़ में शामिल होने का भारत का कोई मकसद नहीं है.