कालपेट्टा (केरल): चिलचिलाती गर्मी का मुकाबला करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ लोकसभा चुनाव के लिए गुरुवार को वायनाड निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार अभियान शुरू किया.  वायनाड में राहुल गांधी ने कहा, मैं समझता हूं कि सीपीएम में मेरे भाई और बहन अब मेरे खिलाफ मुझ पर हमला करेंगे, लेकिन मैं अपने पूरे चुनाव अभियान में सीपीएम के खिलाफ एक भी शब्‍द कहने नहीं जा रहा हूं. राहुल ने कहा, मैं केरल में आया हूं एक संदेश देने के लिए कि भारत एक है, चाहे उत्‍तर, दक्षिण, पूर्व या पश्‍च‍िम हो. मेरा उद्देश्‍य है एक संदेश भेजना, यहां दक्ष‍िण भारत में एक फीलिंग है, जो केंद्र का रास्‍ता है. मोदी जी और आरएसएस साउथ में संस्‍कृति और भाषा पर एक हमले की तरह काम कर रहे हैं.

वायनाड में 23 अप्रैल को मतदान होना है. एआईसीसी प्रमुख ने जिला कलेक्टर के कार्यालय में नामांकन दाखिल करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी और केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्नितला सहित राज्य के कई नेताओं के साथ एक खुले वाहन में रोडशो शुरू किया.

सड़क के दोनों ओर लोगों का हुजूम था. सुरक्षा बलों को कार्यकर्ताओं को नियंत्रित करने और उनके वाहन के लिए रास्ता बनाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी. राहुल और प्रियंका ने हाथ हिलाते हुए वहां मौजूद लोगों का अभिवादन किया. वाहन के थोड़ा आगे बढ़ते ही राहुल ने उत्साहित समर्थकों से हाथ भी मिलाया.

लोग यहां अपने फोन से फोटो खींचते भी नजर आएं. समर्थकों ने कांग्रेस और उसके सहयोगी दल इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के झंडे भी फहराए. रोडशो से पहले राहुल ने जिला कलेक्टर ए आर अजयकुमार को अपना नामांकन पत्र सौंपा. इस दौरान कलक्ट्रेट कार्यालय के आसपास कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी. (इनपुट: भाषा- एएनआई)