नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में हुई बुरी हार पर मंथन को लेकर बुलाई गई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक खत्म हो गई है. इस बैठक में राहुल गांधी ने कहा कि वह अध्यक्ष के रूप में काम नहीं करना चाहते. उन्होंने पार्टी के लिए काम करते रहने की बात कही. इस तरह राहुल गांधी ने हार की नौतिक जिम्मेवारी लेते हुए पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश कर दी. पहले से ऐसी रिपोर्ट आ रही थी कि राहुल गांधी इस्तीफे पर अड़े हुए हैं, लेकिन पार्टी उनको मनाने में जुटी हुई थी. बताया जा रहा है कि राहुल गांधी ने कहा है कि अध्यक्ष पद गांधी परिवार में किसी के पास नहीं रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगला अध्यक्ष कौन होगा, इसके लिए प्रियंका गांधी का नाम नहीं लिया जाना चाहिए.

राहुल गांधी ने की अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश, कांग्रेस वर्किंग कमेटी नहीं हो रही तैयार

सूत्रों से ऐसी खबर आ रही है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और सोनिया गांधी ने भी राहुल से इस्तीफे की पेशकश नहीं करने की बात कही थी, लेकिन राहुल अपनी बात पर अड़े रहे. उनको प्रियंका गांधी ने भी मनाने की कोशिश की लेकिन राहुल नहीं माने. सीडब्ल्यूसी की बैठक से बाहर निकलीं अंबिका सोनी ने कहा कि बैठक के बारे में किसी को कुछ बाहर नहीं बोलने को कहा गया है.

यह भी जानकारी आ रही है कि वर्किंग कमेटी ने एक प्रस्ताव पारित कर कहा है कि राहुल गांधी पार्टी के भीतर जो करना चाहते हैं वो करें. उनको इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस कार्यसमिति ने राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश को खारिज कर दिया है. सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस को राहुल गांधी के नेतृत्व की ज़रूरत है. मीटिंग के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाएगी.