नई दिल्ली: मेनका गांधी (Maneka Gandhi) द्वारा वोट को लेकर मुस्लिमों (Muslim Voter’s) के लिए दिए गए बयान पर उनकी ही पार्टी की नेता हेमा मालिनी (Hema Malini) ने इसका जवाब दिया है. मथुरा (Mathura Lok Sabha Seat) से बीजेपी की उम्मीदवार हेमा मालिनी ने कहा कि हमें कोई वोट करे या न करे, यह मायने नहीं रखता है. हमें सबकी मदद करनी होती है. यह फीलिंग मेरे अंदर नहीं आती है, लेकिन सब अलग-अलग तरह से सोचते हैं.

वोट करे या न करे, मदद को सबकी करनी है
मेनका गांधी के बयान पर हेमा मालिनी ने कहा कि ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर कई मुस्लिम महिलाओं ने हमें सपोर्ट किया, लेकिन अगर वह नहीं करती, तब भी हमें सबकी मदद करनी होती. इसके साथ ही हेमा मालिनी ने कहा कि सिस्टम बदल रहा है. लोग विकास चाहते हैं, कास्ट पॉलिटिक्स अब काम नहीं करती है. हेमा मालिनी ने कहा कि मैं अपनी जीत को लेकर बेहद आत्मविश्वास में हूं क्योंकि मैंने अच्छा काम किया है. मेरी सरकार ने अच्छा काम कर के दिखाया है.

मेनका गांधी बोलीं- नौकरी चाहिए तो मुस्लिम वोट दें, वर्ना हम महात्मा गांधी की छठी औलाद नहीं, जो देते जाएंगे

मेनका ने दिया था ये बयान
बता दें कि केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने मुस्लिम मतदाताओं से कहा है कि वे आगामी लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में उनके पक्ष में मतदान करें क्योंकि मुसलमानों को चुनाव के बाद उनकी जरूरत पड़ेगी. मेनका के इस बयान पर विवाद हो रहा है. मेनका गांधी ने मुस्लिम बहुल क्षेत्र तूराबखानी में 12 अप्रैल को आयोजित एक चुनावी सभा में कहा था, ‘मैं लोगों के प्यार और सहयोग से जीत रही हूं लेकिन अगर मेरी यह जीत मुसलमानों के बिना होगी तो मुझे बहुत अच्छा नहीं लगेगा.’’ भाजपा नेता ने कहा, ‘‘इतना मैं बता देती हूं कि फिर दिल खट्टा हो जाता है. फिर जब मुसलमान आता है काम के लिये, फिर मै सोचती हूं कि नहीं रहने ही दो क्या फर्क पड़ता है. आखिर नौकरी भी तो एक सौदेबाजी ही होती है, बात सही है या नहीं?’

मुस्लिमों पर विवादित टिप्पणी कर फंसीं मेनका, कारण बताओ नोटिस जारी, 3 दिन में देना होगा जवाब

‘महात्मा गांधी की छठी औलाद नहीं’
मेनका गांधी ने कहा था कि ये नहीं कि हम लोग महात्मा गांधी की छठी औलाद हैं कि हम देते ही जाएंगे, देते ही जाएंगे और फिर इलेक्शन में मार खाते जाएंगे. उन्होंने कहा कि ‘अगर आप पीलीभीत में पूछिये, पीलीभीत के एक भी बंदे को फोन कर पूछो कि मेनका गांधी कैसे थी वहां. अगर आपको लगे कि कहीं भी हमसे कोई गुस्ताखी हुई तो हमको वोट मत देना. अगर आपको लगे कि हम खुले हाथ और दिल के साथ आये हैं कि आपको कल मेरी जरूरत पड़ेगी. यह इलेक्शन तो मैं पार कर चुकी हूं अब आपको मेरी जरूरत पड़ेगी.’ मेनका गांधी इस बार सुल्तानपुर (Sultanpur Lok Sabha Seat) से चुनाव लड़ रही हैं जबकि उनके पुत्र वरूण गांधी उनकी सीट पीलीभीत से चुनाव लड़ रहे हैं.