लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कहा कि सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग के मामले में कांग्रेस भी भाजपा से कम नहीं है. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के गुना लोकसभा सीट पर बसपा उम्मीदवार को कांग्रेस ने डरा-धमकाकर जबर्दस्ती बैठा दिया है. बसपा वहां अपने चुनाव चिह्न् (सिंबल) से लड़ेगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब पार्टी वहां कांग्रेस सरकार को समर्थन जारी रखने पर भी पुनर्विचार करेगी.

मायावती ने मंगलवार को लखनऊ में जारी एक बयान में कहा कि मध्य प्रदेश से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस पार्टी वहां (मध्यप्रदेश में) भाजपा से कम व बसपा से ज्यादा लड़ने का घिनौना कार्य लगातार कर रही है. उन्होंने कहा, “कांग्रेस ने गुना लोकसभा सीट पर बसपा के उम्मीदवार को कांग्रेस ने डरा-धमकाकर जबर्दस्ती बैठा दिया है. किंतु बसपा वहां अपने सिम्बल पर ही लड़कर इसका जवाब देगी और अब कांग्रेस सरकार को समर्थन जारी रखने पर भी पुनर्विचार करेगी.”

बीएसपी सुप्रीमों ने कहा,”कांग्रेस वहां के लोगों पर फर्जी मुकदमे दर्ज करने के अलावा उन्हें हर प्रकार से डरा-धमकाकर व प्रलोभन देकर उन्हें तोड़ कर बसपा को कमजोर करने की साजिश कर रही है. यह कांग्रेस पार्टी का दोगला चेहरा है.”

मायावती ने कहा, “उत्तर प्रदेश में कांग्रेसी नेताओं का यह प्रचार है कि भाजपा भले ही जीत जाए, लेकिन बीएसपी-एसपी गठबंधन को नहीं जीतना चाहिए. यह कांग्रेस पार्टी के जातिवादी, संकीर्ण और दोगले चरित्र को दर्शाता है. अत: लोगों का यह मानना सही है कि भाजपा को केवल हमारा गठबंधन ही हरा सकता है. लोग सावधान रहें.”

बता दें कि मध्यप्रदेश के गुना-शिवपुरी से ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ खड़े बसपा के उम्मीदवार लोकेंद्र सिंह राजपूत कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. लोकेंद्र सिंह राजपूत ने सिंधिया की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ली है. यह बसपा के लिए एक बड़ा झटका है. ज्योतिरादित्य सिंधिया इस सीट से 4 बार चुनाव जीत चुके हैं.