नई दिल्ली. आम चुनाव के लिए प्रचार अभियान के जोर पकड़ने के साथ सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) तथा उसके समर्थक फेसबुक पर जमकर विज्ञापन दे रहे हैं और इस मामले में दूसरे दलों एवं लोगों से कहीं आगे हैं. फेसबुक पर विज्ञापन व्यय बढ़कर 8.38 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है जिसमें भाजपा और उसके समर्थकों की हिस्सेदारी सर्वाधिक है. सोशल मीडिया कंपनी ने यह जानकारी दी. फेसबुक की एड लाइब्रेरी रिपोर्ट के अनुसार फरवरी से लेकर 16 मार्च 2019 तक कुल राजनीतिक विज्ञापन 34,048 रहे. इस पर 6.88 करोड़ रुपए खर्च किए गए.

पीएम नरेंद्र मोदी इस बार गुजरात से नहीं लड़ेंगे चुनाव, वजह बने हैं अमित शाह

यह संख्या 23 मार्च तक बढ़कर 41,514 हो गई, जबकि कुल खर्च 8.38 करोड़ रुपए तक पहुंच गया. रिपोर्ट के अनुसार 23 मार्च 2019 को समाप्त सप्ताह में भारत में फेसबुक पर राजनीति और राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों से जुड़े विज्ञापनों की संख्या 7,400 से अधिक बढ़ी है. ‘भारत के मन की बात’ पृष्ठ सर्वाधिक खर्च करने वाले के रूप में उभरा है. इसके माध्यम से दो श्रेणी के अंतर्गत 3,700 से अधिक विज्ञापन आए और 2.23 करोड़ रुपए से अधिक खर्च किए गए. भाजपा ने करीब 600 विज्ञापन दिए और 7 लाख रुपए खर्च किए. वहीं अन्य पृष्ठ जैसे ‘माई फर्स्ट वोट फार मोदी’ और ‘नेशन विद नमो’ पर भी काफी खर्च किया गया है. अमित शाह के पृष्ठ पर एक विज्ञापन है और इस पर खर्च 2.12 लाख रुपए है.

प्रियंका गांधी का एलान- पार्टी कहेगी तो इस सीट से लड़ सकती हूं चुनाव

इसकी तुलना में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पेज पर 410 विज्ञापन हैं और इस पर फरवरी से मार्च के दौरान विज्ञापन खर्च 5.91 लाख रुपए रहा है. फेसबुक ने फरवरी में कहा था कि उसके मंच पर दिए गए राजनीतिक विज्ञापनों के बारे में ब्योरा दिया जाएगा. इसमें जो लोग विज्ञापन देंगे उनका ब्योरा शामिल है. सोशल मीडिया ने राजनीतिक विज्ञापनों में पारदर्शिता लाने के इरादे से यह कदम उठाया है. जिन विज्ञापनों को लोग देख रहे हैं उनके लिए जिम्मेदार लोगों के बारे में अधिक जानकारी देने के वास्ते यह कदम उठाया गया है.