पुणे: अधिकतर पार्टियों की भव्य रैलियों व रोडशो के बीच एक महाराष्‍ट्र की पुणे लोकसभा सीट में अनोखा उम्‍मीदवार नजर आ रहा है. निर्दलीय मैदान में उतरे आनंद वांजपे अपने मतदाताओं से संपर्क साधने के लिए हर रोज 60 किलोमीटर साइकिल चला रहे हैं. ऐसा करके उनका लक्ष्य पुणे शहर को प्रदूषण मुक्त बनाना भी है.

पाटण में बोले मोदी, मैंने पाकिस्तान से कहा था कि अभिनंदन को कुछ हुआ तो हम तुम्हें नहीं छोड़ेंगे

स्वयं को पर्यावरण राजनेता बताने वाले वांजपे ने कहा कि वह कई साल से प्रदूषण मुक्त जीवन शैली अपनाने के लिए प्रचार कर रहे हैं और इस बार उन्होंने इसे उजागर करने की ठानी है, क्योंकि किसी भी दल ने अपने घोषणापत्र में पर्यावरण और प्रदूषण का जिक्र नहीं किया है.

राहुल गांधी के आवास के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया जमकर विरोध प्रदर्शन

वांजपे ने कहा, प्रदूषण का मुद्दा, चाहे वह वायु, ध्वनि, पानी या प्लास्टिक हो. गंभीर चिंता का विषय बन गया है. मैंने सोचा कि इसे उठाकर चुनावी मुद्दा बनाना चाहिए. किसी भी राजनीतिक दल या उम्मीदवार ने अपने घोषणापत्र में इसे शामिल नहीं किया है. पुणे लोकसभा सीट पर तीसरे चरण में 23 अप्रैल को मतदान होगा. वांजपे एक विज्ञापन पेशेवर हैं और उनकी एक साइकिल की दुकान भी है. इस सीट पर वांजपे का मुकाबला भाजपा के गिरीश भालचंद्र बापट और कांग्रेस के मोहन रामकृष्ण जोशी से है.