नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव 2019 की चर्चा के बीच हर तरफ मुद्दों पर बात हो रही है. मुद्दे क्या होंगे, जो राजपथ का रास्ता तय करेंगे. इन सवालों पर सोमवार को ZEE NEWS के मंच पर राजनीति का महासंवाद #IndiaKaDNA यानी चौकीदारों का सबसे बड़ा सम्मेलन हुआ. इसमें भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी देर शाम शरीक हुए. अमित शाह ने लोकसभा चुनाव, राष्ट्रवाद, कश्मीर मुद्दा, हिंदुत्व जैसे कई मुद्दों पर बेबाकी के साथ अपनी राय रखी. शाह ने कार्यक्रम के दौरान लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों के गठबंधन, भाजपा के खिलाफ रणनीति और मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने को लेकर भी अपनी बातें रखीं. उन्होंने कहा कि यूपी में भाजपा 2014 का इतिहास ही नहीं दोहराएगी, बल्कि उससे भी अच्छा प्रदर्शन करेगी. लोकसभा चुनाव के नतीजे को लेकर शाह ने कहा कि जिस दिन चुनाव के नतीजे आएंगे, उसे देखकर विपक्षी दलों का दिल दहल जाएगा.Also Read - Parliament Monsoon Session 2021: अभी तैयार नहीं हुए CAA के नियम, केंद्र ने कहा- 6 महीने और लगेंगे

अमित शाह ने कहा, ‘मैं विश्‍वास से कहता हूं कि मतगणना में सीटों की संख्‍या और मार्जन देखकर विपक्षियों का दिल दहल जाएगा.’ शाह ने कहा, ‘विपक्ष खयाली खिचड़ी पका रहा है. देश में बीजेपी की सरकार बनेगी और मोदी एक बार फिर से प्रधानमंत्री बनेंगे. बीजेपी को 282 से ज्यादा सीटें मिलेंगी.’ कांग्रेस पार्टी के ऊपर आरोप लगाते हुए उन्होंने हिंदू आतंकवाद का मुद्दा उठाया. शाह ने कहा, ‘वोटों के लिए कांग्रेस ने हिंदू आतंकवाद का आरोप लगाया. हिंदू आतंकवाद का आरोप लगाने वाले जनेऊ पहनकर वोट मांगने जा रहे हैं.’ Also Read - Assam-Mizoram Border Dispute: असम पुलिस के 6 जवानों की मौत पर जश्न, सीएम हिमंता ने वीडियो ट्वीट कर कहा-भयावह, दुखद

#IndiaKaDNA LIVE: सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा, ‘अर्थशास्त्र जानने वाला एक ही वित्त मंत्री रहा मनमोहन सिंह’

#IndiaKaDNA LIVE: सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा, ‘अर्थशास्त्र जानने वाला एक ही वित्त मंत्री रहा मनमोहन सिंह’

भाजपा के खिलाफ यूपी में सपा-बसपा-रालोद के गठबंधन करने को लेकर भी शाह ने विपक्षी नेताओं पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि भाजपा को उत्तर प्रदेश में सतर्कता के साथ चुनाव मैदान में लड़ना होगा. शाह ने कहा, ‘यूपी में हमें सतर्कता के साथ चुनाव लड़ना होगा.’ महागठबंधन पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा, ‘स्वार्थ के लिए किए गए गठबंधन कामयाब नहीं होते हैं. देश में महागठबंधन नाम की कोई चीज नहीं है. यूपी में गठबंधन कैसा है, अन्य राज्यों में गठबंधन का रूप सबको पता है.’ Also Read - मिजोरम के साथ सीमा विवाद में झड़प, असम पुलिस के 6 कर्मियों की गई जान; अमित शाह ने मुख्यमंत्रियों से की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दोबारा पीएम बनने को लेकर भी उन्होंने भरोसा जताया. उन्होंने कहा कि दुनिया में भारत और पीएम मोदी की छवि आज जैसी बनी है, इससे पहले कभी नहीं थी. पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान को लेकर भारत की वैदेशिक नीति का दुनिया ने लोहा माना है. शाह ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी की शख्‍सियत कठोर और त्‍वरित फैसले लेने वाले व्‍यक्ति की है. आज दुनिया में संदेश गया है कि अमेरिका और इजराइल के बाद अपने सैनिकों पर हुए हमले का बदला लेने की ताकत भारत में भी है.’ कश्मीर को लेकर उमर अब्दुल्ला के बयान पर भी अमित शाह ने प्रहार किया. उन्होंने कहा, ‘कश्मीर में अलग पीएम बनाने की कोशिशों को हम कामयाब नहीं होने देंगे. कश्मीर हमेशा भारत का अभिन्न अंग रहेगा.’

कार्यक्रम में अमित शाह ने राष्ट्रवाद के मुद्दे पर उठे सवालों के भी जवाब दिए. वहीं, मोदी सरकार पर विभिन्न संस्थाओं को कमजोर करने संबंधी विपक्षी दलों के आरोप पर उन्होंने कहा, ‘इंदिरा गांधी ने जेएनयू को बंद कर दिया था. कांग्रेस ने इस देश की संस्थाओं को कमजोर किया.’ कश्मीर के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘कश्मीर समस्या के लिए जवाहर लाल नेहरू जिम्मेदार हैं. कांग्रेस शासन में नेहरू की गलतियों को छुपाया गया. चीन को वीटो पावर पंडित नेहरू की वजह से मिली.’ अनुच्छेद 35ए के मामले पर अमित शाह ने कहा, ‘जहां तक आर्टिकल 35ए का सवाल है, 2020 में राज्‍यसभा का भी मानचित्र बदलेगा. राज्‍यसभा में भाजपा और मजबूत होगी.’

उमर अब्दुल्ला के जम्मू-कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री के बयान पर सियासत शुरू, मोदी ने कहा- जवाब दे महागठबंधन

अमित शाह ने कांग्रेस के चुनावी मुद्दे को लेकर कहा, ‘गरीबी हटाने का नारा कांग्रेस की चार पीढ़ियों से चल रहा है. हमारी सरकार ने गरीबों के लिए धरातल पर काम किए हैं. जन-धन योजना, उज्जवला योजना से गरीबों की स्थिति में बदलाव आया. 60 करोड़ लोगों को मुफ्त गैस कनेक्शन, 50 करोड़ लोगों स्वास्थ्य बीमा दिया गया.’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस अगले 5 साल भी सत्ता से दूर रहेगी. BJP के नए वोट बैंक को मीडिया नहीं समझ सकती. भाजपा के बंगाल में सक्रिय होने और तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी के आरोपों का भी शाह ने जवाब दिया. उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल की ममता सरकार ने मुझे चुनाव लड़ने से रोकने के लिए मेरे ऊपर 5 मुकदमे लगा दिए. ममता को इस बार जनता की ताकत का पता चलेगा.’ हाल ही में समझौता एक्सप्रेस धमाकों को लेकर आए कोर्ट के फैसले पर उन्होंने कहा, ‘समझौता ब्लास्ट पर फैसले को चुनाव से जोड़कर नहीं देखना चाहिए.’