अरावकुरिची (तमिलनाडु): दिग्गज अभिनेता कमल हासन के नेतृत्व वाली मक्कल निधि मैयम की एक जनसभा में दो अज्ञात लोगों ने मंच पर कथित तौर पर अंडे और पत्थर फेंके जिसके कारण वहां तनाव व्याप्त हो गया. पुलिस ने यह जानकारी दी. इस बीच, कोयंबटूर जिला पुलिस ने शुक्रवार को सुलूर उपचुनाव में प्रचार करने के लिए अभिनेता को अनुमति देने से इनकार कर दिया. अरावकुरिची में घटना में कोई भी व्यक्ति घायल नहीं हुआ. घटना उस समय घटी जब हासन अपना भाषण समाप्त करके मंच से नीचे उतर रहे थे. पुलिस ने बताया कि उन्हें सुरक्षित ले जाया गया. गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से हिंदू आतंकवाद के बारे में दिए बयान को लेकर कमल हासन चर्चा में हैं. उन्होंने पिछले दिनों कहा था कि महात्मा गांधी का हत्यारा नाथू राम गोडसे देश का पहला आतंकवादी था. उन्होंने कहा था, ‘स्वतंत्र भारत का पहला उग्रवादी एक हिंदू था.’

हासन के इस बयान पर बवाल मच गया. कमल हासन पर दबाव बनाते हुए अन्नाद्रमुक ने कहा कि एमएनएम प्रमुख को अपने वक्तव्य पर खेद प्रकट करना चाहिए. अन्नाद्रमुक ने चेतावनी भी दी कि अगर उन्होंने राज्य में शांति ‘भंग’ करने का प्रयास किया तो लोग उनका बहिष्कार कर देंगे. मक्कल नीधि मय्यम ने अन्नाद्रमुक नेता और राज्य के मंत्री राजेंद्र बालाजी के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. बालाजी ने अपनी टिप्पणी में हासन की जीभ कटवाने की इच्छा जाहिर की थी. रविवार को हासन ने एक चुनावी रैली में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का जिक्र करते हुए कहा था कि ‘‘स्वतंत्र भारत का पहला उग्रवादी एक हिंदू था.’’ उनकी इस टिप्प्णी को लेकर भाजपा और अन्नाद्रमुक ने कड़ी आलोचना की थी जबकि कांग्रेस और द्रमुक ने हासन का बचाव किया था.

(इनपुट-भाषा)